DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  नवादा  ›  बालिका वधू बनने से रोका, माता-पिता से भराया शपथ पत्र
नवादा

बालिका वधू बनने से रोका, माता-पिता से भराया शपथ पत्र

हिन्दुस्तान टीम,नवादाPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 03:50 PM
बालिका वधू बनने से रोका, माता-पिता से भराया शपथ पत्र

नवादा। हिन्दुस्तान संवाददाता

सदर प्रखंड के कोनिया पर इलाके की एक नाबालिग बालिका वधू बनने से बच गई। बालिका के माता-पिता ने उसका विवाह प्रस्तावित कर रखा था। किसी तरह मामले की जानकारी जिला प्रशासन को लगी। जिसके बाद सदर बीडीओ कुमार शैलेन्द्र के नेतृत्व में चाइल्डलाइन टीम और पुलिस पूरे दल-बल के साथ कोनिया पर पहुंचे। बालिका के माता-पिता से मिलकर संबंधित जानकारी ली गई और फिर प्रस्तावित विवाह पर रोक लगाया गया। बालिका के माता-पिता को सदर अनुमंडल लाया गया, जहां सदर एसडीओ उमेश कुमार भारती ने उन्हें बाल विवाह निषेध अधिनियम की जानकारी दी और फिर माता-पिता से बालिका का विवाह निश्चित आयु पूरा होने के बाद ही संपन्न कराने संबंधित शपथ पत्र भराया। एसडीओ ने कानून की विभिन्न धाराओं और बाल-विवाह को अपराध बताते हुए माता-पिता को इसके दुष्परिमाण की भी जानकारी दी गई। जिसके बाद बालिका के माता-पिता ने शपथ-पत्र भरकर यह शपथ लिया कि वे अपनी बेटी की शादी नाबालिग अवस्था में नहीं करेंगे। अपनी बच्ची का विवाह 18 वर्ष पूरा हो जाने के बाद ही उसका विवाग करेंगे। सदर एसडीओ ने बताया कि शपथ-पत्र पर की गई घोषणा की अवहेलना पर माता-पिता और संबंधित परिजनों को बाल विवाह निषेध अधिनियम-2006 के अंतर्गत दंडित होना पड़ेगा। इस दौरान चाइल्डलाइन के परामर्शी आर्यन मोहन, टीम मेंबर गोपाल कुमार समेत अन्य लोग मौजूद थे।

संबंधित खबरें