अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ओवरलोड वाहनों की जांच के लिए विशेष टीम

नवादा। हिन्दुस्तान प्रतिनिधि

सुरक्षा मानकों की अनदेखी कर सड़कों पर धड़ल्ले से वाहनों को दौड़ाने वालों पर सख्त शिकंजा कसने की तैयारी की गयी है। ऐसे वाहनों पर अंकुश लगाने के लिए जिले में विशेष टीम का गठन किया जाएगा। विशेष टीम हर रोज की गई कार्रवाई का ब्योरा मुख्यालय को भेजेगा। परिवहन विभाग के सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने डीएम को पत्र भेजकर शीघ्र टीम का गठन करने का निर्देश दिया है। टीम में परिवहन विभाग के अधिकारियों के अलावा प्रशासनिक पदाधिकारी भी शामिल होंगे। परिवहन विभाग का मानना है कि हर रोज की कार्रवाई की रिर्पोट मुख्यालय भेजने के कारण वाहनों की जांच में लापरवाही बरतने की संभावना कम होगी। आदेश में यह भी है कि यदि वहां ओवरलोड वाहनों के चलने की सूचना मिलती है तो इसके लिए विशेष टीम जवाबदेह मानी जाएगी व टीम पर कार्रवाई होगी।

सड़क हादसों पर विभाग गंभीर

विभाग ने सड़क हादसों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी पर चिंता जतायी है। इनमें हो रही मौत को रोकने के लिए विभाग लगातार नए प्रयोग कर रहा है। पिछले चार वर्षों में परिवहन विभाग ने ओवरलोड रोकने व निर्धारित मानकों के पालन से संबंधित कम से कम एक दर्जन आदेश जारी किये। परंतु इनका बहुत सकारात्मक परिणाम सामने नहीं आया व मानकों की अनदेखी जारी रही। बता दें कि जिले में हर वर्ष तकरीबन चार सौ सड़क हादसों में दो सौ लोगों की मौत होती है।

सड़कें हो रही जर्जर हाल

भार वाहन की निर्धारित क्षमता से अधिक माल लेकर चलने के कारण सड़कों की स्थिति लगातार खस्ता हाल हो रही है। जिले का सबसे अधिक व्यस्त मार्ग एनएच 31 इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है। अंतरराज्यीय सीमाओं से जुड़े इस मार्ग से हर रोज हजारों ओवरलोड वाहन गुजरते हैं। लिहाजा, सड़क की स्थिति तुरंत जर्जर हो जाती है। कमोबेश नवादा- नारदीगंज रोड का भी यही हाल है। हर रोज सैंकड़ों ओवरलोड डम्पर व ट्रक इस सड़क को जर्जर बना रहे हैं।

बसों की छतों पर भी संज्ञान

वाहन क्षमता से अधिक भार लेकर यात्री बसों की छतों पर अधिक सामान लेकर चलने वालों पर भी संज्ञान लिया गया है। विभाग ने विशेष टीम को ऐसे बसों को जब्त कर कार्रवाई का निर्देश दिया है। निर्माण सामग्री मसलन बालू, गिट्टी आदि लेकर बिना ढंके चलने वाले वाहनों पर भी कार्रवाई का निर्देश दिया गया है। इन वाहनों से सामग्रियों के सड़क पर गिरने के कारण सड़क हादसों की संभावना बनती है।

वर्जन

इससे संबंधित विभागीय पत्र मिला है। डीएम स्तर से विशेष जांच दल का गठन किया जाना है। परिवहन विभाग के अधिकारी भी इसमें शामिल रहेंगे। आदेशानुसार ओवरलोड वाहनों के विरुद्ध कार्रवाई होगी। पूर्व में भी जांच होती रही है। परंतु कार्यबल क्षमता की कमी से हर रोज संभव नहीं हो पाता है। - ब्रजेश कुमार, डीटीओ, नवादा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Special team for overloaded vehicles