DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किऊल-गया रेलखंड का होगा कायाकल्प

किऊल-गया रेलखंड का सम्पूर्ण कायाकल्प कर दिया जाएगा। दोहरीकरण और विद्युतीकरण का काम हर हाल में 2020 तक पूरा कर लिया जाएगा। इसके बाद इस रेलखंड पर एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन भी होगा। ये बातें केजी रेलखंड का विंडो इंस्पेक्शन करने नवादा स्टेशन पहुंचे दानापुर डीआरएम रमेश कुमार झा ने कहीं। गुरुवार को दानापुर रेलमंडल की पूरी टीम उनके साथ नवादा स्टेशन का विंडो निरीक्षण करने पहुंची थी। केजी रेलखंड के दोहरीकरण तथा किऊल से तिलैया जंक्शन तक विद्युतीकरण के कार्य की जांच और कार्य को गति देने के सिलसिले में दिशा-निर्देश देने विशेष सैलून से पहुंचे डीआरएम ने बताया कि रेलखंड के दोहरीकरण को लेकर पिछले चार मई को हुए शिलान्यास कार्यक्रम के बाद कार्य तेज गति से शुरू कर दिया गया है। अलग-अलग खंड में जारी दोहरीकरण और विद्युतीकरण का कार्य मार्च- 2020 तक निश्चित रूप से पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि यह कार्य पूरा होने के बाद इस रेलखंड का महत्व काफी बढ़ जाएगा। भूमि अधिग्रहण का कार्य शीघ्र होगा पूरा डीआरएम ने विंडो इंस्पेक्शन के क्रम में बताया कि रेलवे अपनी जमीन के साथ ही जरूरत के हिसाब से रेलवे की जमीन से सटी जमीनों का भी उपयोग कर सकती है। इसके लिए भूमि अधिग्रहण का कार्य भी जल्द ही शुरू कर दिया जाएगा। नवादा रेलवे स्टेशन समेत अन्य तमाम स्टेशनों पर अतिक्रमित कर ली गयी रेलवे की जमीन पर से अतिक्रमण हटाने की बात भी उन्होंने कही। इस रेलखंड पर बनने वाले पुल-पुलिया, फ्लाई ओवर आदि जैसे कार्य को भी साथ-साथ ही पूरा करा लेने का दावा डीआरएम ने किया। चलायी जाएंगी कई नई गाड़ियां डीआरएम ने बताया कि इस रेलखंड का कायाकल्प हो जाने के बाद इस रेलखंड से होकर कई मेल और एक्सप्रेस ट्रेन का परिचालन भी होगा। इस रूट पर ट्रेनों की संख्या में वृद्धि किए जाने से निश्चित रूप से यात्रियों को सुविधा होगी। ट्रेनों के अलावा माल गाड़ियों का आवागमन भी जारी रहेगा। माल गाड़ियों का अधिक परिचालन इस रेलखंड को कॉमर्शियल रेलखंड का वैल्यू देगा। केजी रेलखंड पर जारी काम के निरीक्षण की जिम्मेवारी खुद संभाल रहे डीआरएम ने कहा कि नवादा स्टेशन समेत केजी रेलखंड के सभी स्टेशन और जंक्शन का रंगरूप बदल देने की तैयारी चल रही है। सभी स्टेशनों को यात्रियों के लिए विशेष सुविधाजनक बना दिए जाएगा। बदली-बदली रही व्यवस्था डीआरएम के आगमन के कारण नवादा स्टेशन समेत समस्त परिसर का रंगरूप बदला-बदला नजर आ रहा था। गुरुवार की सुबह से ही स्टेशन परिसर और बाहरी परिक्षेत्र से सभी वेंडर गायब रहे। साफ-सफाई भी बिल्कुल दुरुस्त थी। सुरक्षा व्यवस्था भी एकदम दुरुस्त दिखी। हालांकि ट्रेनों के परिचालन में अन्य दिनों से अलग कोई बदलाव नहीं दिखा। ट्रेनें लेटलतीफी के साथ ही चलती रहीं। 53626 सवारी गाड़ी गया से नवादा आने में ही पांच घंटे लग गयी। गर्मी की अधिकता से सवारी हलकान होते रहे। डीआरएम के आगमन की जानकारी पर सभी यह कहते मिले कि न जाने ट्रेनों के बोगियों की व्यवस्था में कब बदलाव हो पाएगा। अधिकारी इस पर ध्यान देंगे भी या सब बस रामभरोसे ही चलता रहेगा। वारिसलीगंज रेलवे स्टेशन का भी किया निरीक्षण वारिसलीगंज। डीआरएम आरके झा ने गुरुवार को वारिसलीगंज रेलवे स्टेशन का विन्डो निरीक्षण किया। इस दौरान स्टेशन प्रबंधक से बातचीत करते हुए डीआरएम ने स्टेशन पर साफ सफाई, पेयजल की व्यवस्था और अन्य यात्री सुविधाओं के बारे में जानकारी ली। बताया गया कि केजी रेलखंड में चल रहे दोहरीकरण और विद्युतीकरण के कार्यों का निरीक्षण करने के क्रम में डीआरएम के साथ रेल के कई वरीय अधिकारी साथ थे। स्टेशन प्रबंधक बीआर दास से अधिकारियों ने कई सवाल-जवाब किए। महज कुछ मिनट रुकने के बाद डीआरएम की सैलून नवादा की ओर चली गई। रेल अधिकारियों के आने की सूचना के बाद बाजार के कई व्यवसाईयों समेत सामाजिक और राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता डीआरएम से मिलकर स्टेशन की विभिन्न समस्याओं से अवगत करवाने की कोशिश की, पर मौका नहीं मिल पाया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Qual-Gaya railway will be rejuvenated