DA Image
27 नवंबर, 2020|11:59|IST

अगली स्टोरी

कोरोना का भय छोड़ पब्लिक लारपवाह, नहीं पहन रही मास्क

default image

जिला मुख्यालय हो, या प्रखंड मुख्यालय। गांव, कस्बा, टोला-मोहल्ला, कहीं भी कोरोना का भय दिखाई नहीं दे रहा है। जबकि जिले में पिछले 48 घंटे में 64 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मिलने की पुष्टि हुई है। शुक्रवार दोपहर लेकर शनिवार दोपहर के बीच जिले में कोरोना संक्रमण के 40 नए मामले सामने आए हैं। लेकिन पब्लिक है कि मानती ही नहीं, आलम यह है कि लोग कोरोना से बचाव के नियम-कानून को पालन करने से तौबा कर चुके हैं। बाजार हो; या चौक-चौराहा, सभी जगह लोग बिना मास्क लगाए धड़ल्ले से खरीदारी व चहलकदमी करते नजर आ रहे हैं। स्थिति यह है कि सामाजिक दूरी तो दूर की बात रही, लोग दो गज की शारीरिक दूरी बनाने के नियम को भी दरकिनार कर चुके हैं। शहर, बाजार के दुकानों से सैनेटाईजर गायब हो गया है। बिहार स्वास्थ्य विभाग ने शनिवार शाम पांच बजे अपडेट जारी कर बताया कि जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या 3464 हो गई है। इनमें 3208 संक्रमितों ने इलाज के बाद कोरोना वायरस से मुक्ति पा ली है और स्वास्थ्य लाभ कर रहे हैं। फिलहाल, जिले में कोविड-19 के 239 एक्टिव मामले हैं।

आनेवाली सर्दी में कोरोना बरपा सकता है कहर

जिले में सर्दी ने दस्तक दे दी है। देश-विदेश के वैज्ञानिक दावा कर रहे है कि सर्दियों में कोरोना वायरस फिर से कहर बरपा सकता है। रिसर्च बताते है कि सर्दी में कोरोना 07 से 23 गुणा तक अधिक ताकतवर हो सकता है। आईआईटी बॉम्बे के वैज्ञानिकों का दावा है कि मास्क नहीं लगाने से कोरोना का प्रसार तेजी से बढ़ सकता है। इधर, सर्दी में वातावरण में नमी बढ़ने के साथ कोरोना के प्रसार में तेजी आने के आसार जताए गए हैं। ऐसे में मास्क लगाकर कोरोना संक्रमण से बचा जा सकता है, लेकिन जिले के नागरिकों द्वारा कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव को एहतियाती कदम नहीं उठाए जा रहे है, जो सबके लिए चिंता का विषय है।

जिला प्रशासन ने जारी किया अलर्ट, फिर चलेगा मास्क जांच अभियान

जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमण मामले को लेकर जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है। जिला पदाधिकारी यश पाल मीणा ने सदर व रजौली एसडीओ सहित सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी और अंचल अधिकारी नवादा को निदेश दिया है कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए आम नागरिकों के बीच व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए, शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में मास्क लगाने एवं सामाजिक दूरी के पालन को लेकर लोगों को एकबार फिर से जागरूक किया जाये। मास्क लगाने और नियमित अंतराल पर हाथों को सैनेटाईज करने या साबुन से धोने से कोरोना वायरस के चपेट में आने से काफी हद तक बचा जा सकता है। लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों के पालन की भी अपील की गई है।

प्रशासन ने माना, चुनाव के दौरान नियमों की हुई अवहेलना

बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान कोरोना संक्रमण से बचाव के नियमों का सही से पालन नहीं हो सका है। जिला पदाधिकारी ने बताया कि विशेष शाखा के पदाधिकारियों ने जिले के शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र तथा चुनावी सभा में चलने वाले व्यक्तियों द्वारा मास्क धारण करने के संबंध में सर्वेक्षण किया, तो पाया गया कि शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र तथा चुनावी सभा में औसतन जिले के 20 फीसदी लोगों ने ही मास्क का उपयोग किया है। इसके अतिरिक्त फुटपाथ, सब्जी मंडी, ठेला, टेम्पो एवं ई-रिक्शा चालकों द्वारा मास्क धारण करने के साथ ही सामाजिक दूरी का पालन सही तरीके से नहीं किया जा रहा है। जिला पदाधिकारी ने इस संबंध में आम जनों के बीच मास्क लगाने एवं सामाजिक दूरी के पालन को लेकर फिर से व्यापक प्रचार-प्रसार कराने की जरूरत महसूस की है। डीएम यश पाल मीणा ने नागरिकों से मास्क लगाने, हाथों को नियमित तौर पर सैनेटाईज करने और सामाजिक दूरी के नियम को पालन करने की अपील की है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Public largess left Corona 39 s fear not wearing mask