DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  नवादा  ›  कोरोना की तीसरी लहर से जंग की करें तैयारी, डॉक्टरों-स्वास्थ्यकर्मियों को करें प्रेरित
नवादा

कोरोना की तीसरी लहर से जंग की करें तैयारी, डॉक्टरों-स्वास्थ्यकर्मियों को करें प्रेरित

हिन्दुस्तान टीम,नवादाPublished By: Newswrap
Wed, 16 Jun 2021 05:10 PM
कोरोना की तीसरी लहर से जंग की करें तैयारी, डॉक्टरों-स्वास्थ्यकर्मियों को करें प्रेरित

नवादा। हिन्दुस्तान संवाददाता

कोरोना की संभावित तीसरी लहर से जंग की पूर्व तैयारी करें। प्रखंड स्तर पर कोरोना संक्रमितों को बेहतर इलाज मिले। इसको लेकर चिकित्सकों और स्वास्थ्यकर्मियों को प्रेरित करें। डीएम यश पाल मीणा ने मंगलवार को सदर अस्पताल स्थित सिविल सर्जन कार्यालय में स्वास्थ्य पदाधिकारियों को यह निर्देश दिया। कोरोना की तीसरी लहर की पूर्व तैयारी में ऑक्सीजन गैस की उपलब्धता, बेड, आवश्यक दवा, एम्बुलेंस आदि की पर्याप्त मात्रा में व्यवस्था कर लें। कहा कि जिले के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र स्तर पर आपातकालीन मरीजों को बेड पर ही ऑक्सीजन पाईपलाइन से गैस की सप्लाई करना सुनिश्चित करें। विशेषकर सभी पीएचसी एवं सीएचसी स्तर पर बच्चों की ईलाज के लिए समुचित व्यवस्था का प्रबंध हो।

टीकाकरण कार्य को बढ़ावा देने पर जोर

जिले में कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर कोविड-19 टीकाकरण अभियान को सफल बनाने पर जोर दिया गया। डीएम ने कहा कि कोविड-19 जांच के साथ-साथ वैक्सीनेशन कार्य में प्रगति लाने पर जोर दें। जिले में पंचायत स्तर पर कोविड-19 वैक्सीनेशन कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए टीम का गठन करें। महादलित टोलों में अलग से टीकाकरण सत्र स्थल बनाने की योजना पर कार्य करें। साथ ही जिले के अल्पसंख्यकों के निवास वाले क्षेत्रों में भी वैक्सीनेशन सेशन साईट बनाकर कोविड-19 टीकाकरण कराना सुनिश्चित करें। जीविका तथा शिक्षा विभाग एवं संबंधित परिवारों का शत-प्रतिशत कोविड-19 वैक्सीनेशन कराने पर जोर दिया गया है।

सदर अस्पताल में मरीजों के मिले सिटी स्कैन की सुविधा

सदर अस्पताल में गंभीर मरीजों के लिए सिटी स्कैन की सुविधा प्राप्त नहीं है। बैठक के दौरान डीएम ने सिविल सर्जन को निर्देश दिया और कहा कि अस्पताल के लिए एक सिटी स्कैन मशीन खरीद करने का प्रस्ताव बनाकर भेजें। उन्होंने सदर अस्पताल परिसर में रहे पुराने भवनों को चिन्हित करते हुए ध्वस्त करने को निर्देश दिया। अस्पताल परिसर के अन्दर ड्रेनेज सिस्टम, शौचालय, पीने की पानी, साफ-सफाई जैसी व्यवस्थाओं का प्रबंध करने को कहा गया है। मातृ एवं प्रसूति विभाग को अत्याधुनिक बनाते हुए सभी आधुनिक उपकरण एवं सुविधा से लैस करने पर बात चली। डीएम ने नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी कन्हैया कुमार को अस्पताल परिसर में जल-जमाव की समस्या का स्थायी निदान निकालने को निर्देश दिया है।

गंदगी से मुक्ति और साफ-सफाई पर जोर

सदर अस्पताल को गंदगी से मुक्ति मिले, इसको लेकर खास पहल की गई है। अस्पताल परिसर से गंदगी हटाने को लेकर तत्परता के साथ सभी तरह के उपाय किए जाएंगे, ताकि परिसर में साफ-सफाई रहें और मरीज और उनके परिजन स्वच्छ माहौल में इलाज करा सकें। डीएन ने अस्पताल के अन्दरूनी हिस्सों सहित बाहरी इलाकों में साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने को कहा है। नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी को शहर भर में जल जमाव की स्थिति से निपटने को निर्देश मिला। इसके लिए नक्शा लेकर गहन विचार-विमर्श करने की बात हुई। डीएम ने शहरवासियों को जल-जमाव की समस्या के निजात दिलाने को लेकर पहल की है। उन्होंने माना कि शहर में गंदगी एवं जल-जमाव एक गंभीर समस्या है, इसे हर हाल में दूर करते हुए शहर को साफ-सुथरा बनाने एवं गंदगी से मुक्त रखने को लेकर कार्य आरंभ करने को निर्देश दिया गया। बैठक में सिविल सर्जन डॉ. अखिलेश कुमार मोहन, सदर एसडीओ उमेश कुमार भारती, डीआईओ डॉ. अशोक कुमार, डॉ. वीरेन्द्र कुमार, डीपीआरओ गुप्तेश्वर कुमार, नगर परिषद कार्यपालक पदाधिकारी कन्हैया कुमार सहित अन्य उपस्थित थे।

संबंधित खबरें