ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार नवादादुर्दशा : शहरों की नालियों, गलियों और सड़कों की हालत जर्जर

दुर्दशा : शहरों की नालियों, गलियों और सड़कों की हालत जर्जर

नवादा शहर की आधी से अधिक सड़कों, गलियों व नालियों की स्थिति काफी जर्जर है। ऐसे में वाहन तो दूर पैदल चलना भी खतरनाक साबित हो रहा है। विगत 10-15 सालों पूर्व बनी सड़कों व गलियों की मरम्मत नहीं कराए जाने...

दुर्दशा : शहरों की नालियों, गलियों और सड़कों की हालत जर्जर
हिन्दुस्तान टीम,नवादाThu, 22 Feb 2024 02:30 PM
ऐप पर पढ़ें

नवादा, नगर संवाददाता।
नवादा शहर की आधी से अधिक सड़कों, गलियों व नालियों की स्थिति काफी जर्जर है। ऐसे में वाहन तो दूर पैदल चलना भी खतरनाक साबित हो रहा है। विगत 10-15 सालों पूर्व बनी सड़कों व गलियों की मरम्मत नहीं कराए जाने से सड़कें जर्जरहाल तक पहुंच गयी हैं। बुरा हाल तो यह है कि कई जर्जर सड़कों का जीर्णोद्धार हुआ है लेकिन महज खानापूर्ति करने के कारण यह फिर से एकदम टूट-फूट चुकी हैं जबकि कई वार्डों में नई सड़कें भी विभिन्न कारणों से क्षतिग्रस्त हो कर रह गयी हैं। नई अथवा पुरानी सड़कों और गलियों का बुरा हाल गंगा जल उद्वह योजना के पाइपलाइन बिछाए जाने कारण इतनी क्षतिग्रस्त कर दी गयी हैं कि ये पैदल चलने वालों के भी छक्के छुड़ा रही हैं। दो पहिया और चार पहिया वाहन वालों की दुर्दशा तो पूछने लायक नहीं रह गयी है। सड़क जर्जर होने के कारण आए दिन लोग दुर्घटना के शिकार हो रहे हैं। मोटरसाइकिल व टेम्पो पलटने के साथ पैदल चलने वाले लोग भी चोटिल हो रहे हैं। ज्यादातर दुर्घटनाएं रात के समय होती है। गड्ढे का अंदाजा नहीं होने के कारण लोग गिर कर जख्मी हो जाते हैं। सबसे ज्यादा परेशानी बरसात के समय होती है। सड़क में गड्ढे की जानकारी नहीं होने के कारण अक्सर लोग नालियों में भी गिरकर घायल होते रहते हैं।

लगातार खराब होती जा रही हैं सड़कें, किसी का ध्यान नहीं

शहर की सड़कें लगातार खराब होती जा रही हैं लेकिन इनकी मरम्मत का काम विभिन्न कारणों से लम्बित है। शहर के व्यस्ततम इलाकों के साथ ही पॉश मोहल्लों तक की हालत बेहद बुरी हो कर रह गयी हैं। अभी हाल तक स्टेशन रोड का निर्माण हुआ। इससे सटे शराब डिपो गली में आधी सड़क ही नाले में तब्दील हो चुकी हैं। लोग जैसे-तैसे कर आवाजाही कर रहे हैं। दोनों तरफ पैदल चलने वाले भी आ जाएं तो आड़ा-तिरछा हो कर गुजरने की नौबत रहती है। बाइक आदि आ जाने पर दूर किसी सुरक्षित स्थान पर रूक पास देना पड़ता है। पॉश इलाके नवीन नगर तक हाल यह है कि बीच सड़क पर न सिर्फ नाले का पानी 24 घंटे बहता रहता है बल्कि इस कारण जर्जर सड़क के किनारे ही नाले का गंदा पानी बजबजाता रहता है। पूर्व में बनी जर्जर सड़कों व गलियों की स्थिति काफी बदतर बन जाने के बावजूद इनके जीर्णोद्धार कोई पहल नहीं होना शहरवासियों के लिए निराशाजनक साबित हो रहा है।

लोगों की व्यथा:

पहले नल जल योजना ने शहर की सूरत बिगाड़ी और अब गंगा जल उद्वह योजना ने शहर की सड़कों का बंटाढार कर डाला है। इसके अलावा विभिन्न मोहल्लों से जल निकासी की समुचित व्यवस्था नहीं रहने से सड़कों पर ही नाले का पानी आम लोगों की परेशानी को चरम पर पहुंचा रहा है। नगर परिषद के अधिकारी अपनी ही दुनिया में मगन हैं। - महेश कुमार, नवीन नगर, नवादा।

दुर्घटना को बढ़ावा दे रही शहर की गड्ढे में तब्दील हुईं सड़कें शहरवासियों के लिए परेशानी का सबब बनी पड़ी हैं लेकिन विभिन्न कारणों से अभी भी इसके खोदने का ही सिलसिला जारी है। शहर में खोदे गए गड्ढे बिना समतल किए ही छोड़ देना और भी बड़ी मुसीबत बन रही है लेकिन शिकायतों के बाद भी किसी का ध्यान नहीं है। - मनोज कुमार पंकज, नवीन नगर, नवादा।

नवादा शहरी क्षेत्र की सड़कें और नालियों का ऐसा घालमेल हो चुका है कि पता लगाना मुश्किल हो चला है, कहां नाला है और कहां सड़कें। सड़कें बनने के साथ टूटती जाती हैं और आसपास के नाले का पानी सड़कों पर ही जमा होने लगता है। यह आम आदमी के लिए भारी परेशानी का कारण है लेकिन आमजनों की सुधि लेने वाला कोई नहीं। - गौरव कुमार, व्यवसायी, हरिश्चंद्र रोड

शहर की मुख्य सड़कों और अपेक्षाकृत ज्यादा ध्यान दिए जाने वाले नालों का हाल इतना बुरा है कि लोगों का वास्ता इससे पड़ने पर त्राहिमाम होने लगता है जबकि मोहल्लों के बीच की सड़कों और इससे सटे नाले का बुरा हाल नर्क का अहसास कराता मिल जाता है। स्थानीय वार्ड पार्षद शिकायत पर बस कन्नी कटाते मिल जाते हैं। कोई ध्यान देता नहीं दिखता। - राजन कुमार, हरिश्चंद्र स्टेडियम रोड

नाली साफ नहीं होने के लिए एजेंसी दोषी : मुख्य पार्षद

नवादा नगर परिषद की मुख्य पार्षद पिंकी कुमारी ने बताया कि नगर परिषद की बैठकों में शहरी क्षेत्र की क्षतिग्रस्त हुईं सड़कों की जानकारी प्राप्त की गयी है। बोर्ड की बैठक में सूचीबद्ध एजेंडा में इसे शामिल कर लिया गया है। त्वरित कार्रवाई कर निर्माण कार्य कराए जा रहे हैं। गोला रोड, स्टेशन रोड आदि का कार्य हो चुका है। जल्द ही थाना रोड का कार्य शुरू किया जाएगा। रही बात नाले का पानी सड़कों पर बहने की तो इसका दोषी सीधे-सीधे सफाई एजेंसी है, जिसकी लापरवाही और कार्यपालक पदाधिकारी की अनदेखी के कारण शहर के नाले की सफाई नहीं हो पा रही। इस कारण नाले ओवरफ्लो कर सड़कों पर ही बह रहे हैं अथवा जलजमाव का कारण बन रहे हैं। इस दिशा में समुचित कार्रवाई की जा रही है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें