ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार नवादानवादा से हो रहा साइबर अपराध का संचालन

नवादा से हो रहा साइबर अपराध का संचालन

नवादा जिला साइबर अपराध का गढ़ बनता जा रहा है। अपराधी नवादा में बैठे- बैठे देश भर में फैले साइबर नेटवर्क का संचालन कर आपराधिक घटनाओं को बड़ी आसानी से अंजाम दे रहे हैं। पिछले वर्ष से इन घटनाओं में काफी...

नवादा से हो रहा साइबर अपराध का संचालन
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,नवादाThu, 09 Jul 2020 01:02 PM
ऐप पर पढ़ें

नवादा जिला साइबर अपराध का गढ़ बनता जा रहा है। अपराधी नवादा में बैठे- बैठे देश भर में फैले साइबर नेटवर्क का संचालन कर आपराधिक घटनाओं को बड़ी आसानी से अंजाम दे रहे हैं। पिछले वर्ष से इन घटनाओं में काफी तेजी आयी है। पिछले एक वर्ष में दर्जनों बार दूसरे राज्यों की पुलिस साइबर अपराधियों की टोह में नवादा जिले में दस्तक दे चुकी है। दर्जनों साइबर अपराधियों को मिले साक्ष्यों के आधार पर पकड़कर दूसरे राज्य की पुलिस ले जा चुकी है। परंतु इसका कोई असर नहीं पड़ रहा है व घटनाओं में लगातार इजाफा हो रहा है। जिले में साइबर अपराध को रोकने के लिए गठित साइबर क्राइम एंड सोशल मीडिया यूनिट (सीसीएसमयू) की दो शाखाएं भी इस अपराध को रोक पाने में अब तक सक्षम नहीं हो सकी हैं। पिछले कुछ महीनों में आंध्रा, उत्तराखंड, गुजरात, राजस्थान, तेलंगाना आदि राज्यों की पुलिस के नवादा आने का सिलसिला लगातार जारी रही है। पुलिस के मुताबिक नवादा के अपराधी दूसरे राज्यों के उपभोक्ताओं को फोन कर अपने जाल में फंसाते हैं। हाल के दिनों में लॉटरी में लग्जरी कार निकलने के नाम पर झांसा देकर ठगी की शिकायतें बहुतायत हैं। इसके अलावा पेट्रोल पंप का लाइसेंस दिलाने, मेडिकल कॉलेज में एडमिशन, नौकरी लगाने आदि का प्रलोभन देकर लाखों-करोड़ों की ठगी की जा रही है।

वारिसलीगंज बना अपराधियों का अड्डा

यों तो जिले के अधिकांश थाना क्षेत्रों में साइबर अपराधी सक्रिय हैं। परंतु हाल के दिनों में वारिसलीगंज व इससे सटा काशीचक तथा शाहपुर ओपी साइबर अपराधियों के एक बड़े अड्डे के रूप में विकसित बन कर उभरा है। इन इलाकों से सटे पकरीबरावां क्षेत्र में भी साइबर अपराधियों की गतिविधियां हाल में बढ़ी है। विगत कुछ महीनों में दूसरे राज्यों से आयी पुलिस ने भी अधिकांशत: इन इलाके में ही अपराधियों की टोह में छापेमारी की है व कई अपराधियों को गिरफ्तार कर ले भी गयी है। साथ ही स्थानीय पुलिस भी कई बार इन इलाकों से साइबर अपराधियों को गिरफ्तार कर चुकी है। मोबाइल व लैपटाप से इंटरनेट के जरिये सैंकड़ों युवक इन इलाकों से साइबर नेटवर्क चला रहे हैं। कुछ ही दिनों में लाखों- करोड़ों की उगाही के कारण अपराधियों का मनोबल भी चरम पर है। इसका ताजा उदाहरण है 17 जून को थालपोस गांव में छापेमारी करने गयी पकरीबरावां पुलिस पर हमला। इसमें थानेदार समेत दो घायल हो गये थे।

फर्जी अकाउंट व सिम से शह

अपराधियों के इस धंधे को फर्जी सिम व फर्जी बैंक अकाउंट से शह मिल रहा है। प्राय: वैसे सिम जिनका उपयोग अपराधी धोखाधड़ी के दौरान फोन करने के लिए करते हैं वे किसी दूसरे के नाम पर होते हैं। जिसे पता भी नहीं होता कि उसके नाम पर कोई सिम भी जारी किया गया है। साथ ही जिस अकाउंट में अपराधी उपभोक्ताओं से रुपये मंगाते हैं वे अकाउंट भी फर्जी आधार कार्ड पर खुले होते हैं, जिस पर फोटो किसी और का होता है। इन सब पर अब तक अंकुश नहीं लगाया जा सका है। लिहाजा, इन अपराधियों को पकड़ने में पुलिस को काफी परेशानी होती है।

ईओयू के रडार पर नवादा

आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) की भी नजर नवादा पर है। साइबर मामलों की जांच कर रही ईओयू के रडार पर नवादा के कई अकूत संपत्ति धारक अपराधी बताये जाते हैं। ईओयू ऐसे मामलों में अवैध तरीके से जमा की गयी संपत्ति जब्त कर सकती है। पूर्व में 23 जून 2016 को वारिसलीगंज के चकवाय से ईओयू ने एक जनप्रतिनिधि को गिरफ्तार किया था। इसके अलावा एसटीएफ को भी ऐसे अपराधियों पर नजर रखने के निर्देश हैं। एसटीएफ ने भी वारिसलीगंज के अपसढ़ में उसी दौरान छापेमारी कर चार को गिरफ्तार किया था।

बड़ी घटनाओं पर एक नजर:

08 जनवरी 2019: ढाई लाख हेराफेरी में उत्तराखंड की देहरादून पुलिस ने हिसुआ के दौलतपुरा से एक युवक को गिरफ्तार किया।

11 जनवरी 2019: पेट्रोल पंप लाइसेंस के नाम पर 1.70 करोड़ ठगी में गुजरात की मोरबी पुलिस ने वारिसलीगंज से दो को पकड़ा।

30 जून 2019: पतंजलि में नौकरी के नाम पर 28 लाख फ्रॉड में उत्तराखंड की देहरादून पुलिस ने गोविन्दपुर के बिशुनपुर से एक को पकड़ा।

12 दिसम्बर 2019: आंध्रा पुलिस ने मेडिकल कॉलेज में एडमिशन के नाम पर 14 लाख ठगी में वारिसलीगंज के अपसढ़ से तीन को पकड़ा।

25 दिसम्बर 2019: लाखों की धोखाधड़ी में तेलंगाना की हैदराबाद पुलिस ने कौआकोल के बिन्दीचक से दो साइबर अपराधियों को पकड़ा।

05 फरवरी 2020: तीन करोड़ की ठगी मामले में राजस्थान की जोधपुर पुलिस ने रजौली बाईपास से एक युवक को गिरफ्तार कर लिया।

04 जुलाई 2020: ढाई लाख की धोखाधड़ी मामले में यूपी की अयोध्या पुलिस ने वारिसलीगंज के कांधा गांव से दो युवकों को पकड़ा।