ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार नवादान्यायिक पदाधिकारियों ने पढ़ी संविधान की प्रस्तावना

न्यायिक पदाधिकारियों ने पढ़ी संविधान की प्रस्तावना

74वें संविधान दिवस के अवसर पर रविवार को व्यवहार न्यायालय में न्यायिक पदाधिकारियों व कर्मियों ने संविधान की प्रस्तावना को सस्वर दुहराया। परिवार न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश अनुज कुमार जैन की अध्यक्षता...

न्यायिक पदाधिकारियों ने पढ़ी संविधान की प्रस्तावना
हिन्दुस्तान टीम,नवादाMon, 27 Nov 2023 01:45 PM
ऐप पर पढ़ें

नवादा, विधि संवाददाता
74वें संविधान दिवस के अवसर पर रविवार को व्यवहार न्यायालय में न्यायिक पदाधिकारियों व कर्मियों ने संविधान की प्रस्तावना को सस्वर दुहराया। परिवार न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश अनुज कुमार जैन की अध्यक्षता में न्यायिक पदाधिकारियों व कर्मियों ने संविधान के प्रस्तावना को पढ़ा। कार्यक्रम का आयोजन बिहार राज्य विधिक सेवा प्राधिकार के निर्देश के आलोक में किया गया। कार्यक्रम में प्राधिकार की सचिव कुमारी सरोज कृति भी उपस्थित थीं। इनके अलावे अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश आशुतोष कुमार राय, देशमुख व ज्योति कुमारी, अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी विवेक विशाल, अनुमंडल न्यायिक दंडाधिकारी दीपक कुमार, न्यायाकर्ता आशीष रंजन, न्यायायिक दंडाधिकारी सोनल सरोहा व अनामिका कुमारी सहित काफी संख्या में न्यायालय एवं प्रधिकार के कर्मी उपस्थित थे। प्राधिकार के सचिव ने बताया कि भारत का संविधान 26 नवम्बर 1949 को बनकर पूरा हुआ था तथा इसी दिन इसे अपनाया गया था। यह संविधान ही स्वतंत्र भारत के नागरिकों को आजाद देश की नागरिक की भावना का एहसास कराता है। संविधान में दिये मौलिक कर्तव्य में नागरिकों को उनकी जिम्मेदारियों को भी याद दिलाता है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें