Jai Magadhesh Jai Jarasandh Jayakare to Echoing City Roads - जय मगधेश, जय जरासंध के जयकारे से गूंजे शहर के मार्ग DA Image
21 नवंबर, 2019|6:39|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जय मगधेश, जय जरासंध के जयकारे से गूंजे शहर के मार्ग

default image

जय मगधेश, जय जरासंध के जयकारे से शहर के मार्ग रविवार को गुंजायमान रहे। जिला मुख्यालय स्थित गढ़ पर से मगध सम्राट जरासंध की भव्य शोभायात्रा निकाली गयी। जिलेभर से आये चंद्रवंशियों ने उत्साह और आस्था से सराबोर होकर अपने कुलदेवता को नगर भ्रमण कराया। पारंपरिक ढोल, नगाड़े व भांगड़ा की धुन पर थिरकते लोग आकर्षण के केन्द्रबिन्दु रहे। मगध सम्राट जरासंध की विशाल प्रतिमा सबका ध्यान बरबस खींच रही थी। ज्ञान, सदाचार, मुक्ति शांति और दया का प्रतीक पंचशील ध्वज लहराते बच्चे सार्वभौमिक बंधुत्व का संदेश दे रहे थे। जिले के अलग-अलग गांव-देहात से आए लोगों ने ग्रामीण परिवेश का नजारा प्रस्तुत किया। शोभायात्रा गढ़पर, थाना रोड, प्रसाद बिगहा, अस्पताल रोड, मेन रोड, गया रोड होते हुये शोभनाथ मंदिर स्थित सरोवर पर पहुंची। हजारों श्रद्धालुओं की उपस्थिति में देर रात विधि-विधान के साथ मगधेश की प्रतिमा का विसर्जन हुआ।

चर्चा का विषय बन रहा है जरासंध महोत्सव

चंद्रवंशी समाज का जरासंध पूजन महोत्सव चर्चा का विषय बन रहा। महोत्सव के अंतिम दिन शोभायात्रा में जिलेभर से जुटे चंद्रवंशियों ने शक्तिप्रदर्शन कर अपनी एकजुटता का प्रदर्शन किया। चंद्रवंशी जागरूकता मंच के अध्यक्ष पन्नालाल सिंह, उपाध्यक्ष सुबोध सिंह, कोषाध्यक्ष मिथिलेश कुमार, सचिव जीतेन्द्र कुमार सहित आलोक कुमार के संयुक्त प्रयास से त्रिदिवसीय पूजनोत्सव पूरी भव्यता को प्राप्त हुआ। समाज के मुकेश कुमार, कपिल कुमार, प्रमोद कुमार, सोनू कुमार चंद्रवंशी जैसे दर्जनों कर्मठ कार्यकर्ताओं ने पूरी तन्मयता से महोत्सव को सफल बनाने में योगदान किया।

राजनीति के धुंरधरों का भी रहा जमावड़ा

महोत्सव में राज्य सरकार के कृषि मंत्री प्रेम कुमार पहुंचे। जबकि शोभायात्रा में विभिन्न राजनीतिक दलों के धुरधंर चंद्रवंशी नेताओं का जमावड़ा रहा। लोगों ने जातिगत एकजुटता का प्रदर्शन किया। जदयू के पूर्व जिलाध्यक्ष व पार्टी के संगठन प्रभारी जीवनलाल चंद्रवंशी के साथ रालोसपा के गौतम कपूर, रालोसपा अरूण गुट के मोहन सिंह चंद्रवंशी, नगर परिषद चेयरमैन प्रतिनिधि रवि चंद्रवंशी, भाजपा नेता व वार्ड पार्षद मनोज सिंह चंद्रवंशी, वार्ड पार्षद शंकर सिंह आदि शोभायात्रा में शामिल हुये।

जिला प्रशासन की सख्ती से हाथी, ऊंट लौटे बैरंग

मगधेश जरासंध की शोभायात्रा हाथी, ऊंट, डीजे और शस्त्र प्रदर्शन के साथ काफी भव्य होता रहा था। लेकिन इस वर्ष जिला प्रशासन की सख्ती के आगे किसी की एक नहीं चली। देर रात गढ़ पर स्थित चंदेल भवन पहुंचे हाथी और ऊंट के काफिले प्रशासन के आदेश पर बैरंग लौट गए। बावजूद चंद्रवंशियों ने सूझबूझ का परिचय देकर पारंपरिक ढोल, नगाड़ों की धुन पर शोभायात्रा निकाली। हालांकि शोभायात्रा में हाथी और ऊंट का नहीं होना शहरवासियों के जुबां पर चर्चा का विषय रहा। इधर, मंच के संरक्षक अमित कुमार ने कहा कि प्रशासनिक आदेश का पालन करना हमारा कर्तव्य है। अगले वर्ष यात्रा को भव्यता देने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Jai Magadhesh Jai Jarasandh Jayakare to Echoing City Roads