DA Image
24 सितम्बर, 2020|11:35|IST

अगली स्टोरी

बाजार में बढ़ी भीड़, कोरोना का डर भी हुआ गायब

default image

जिले के बाजारों में लोगों की भीड़ अब सामान्य दिनों की तरह उमड़ रही है। कोरोना का डर अब कहीं नहीं दिख रहा है। सबसे अजीब बात तो यह है कि एक जगह इकट्ठा होने पर लोग कोरोना संक्रमितों की पहचान अब भी होने पर चिंता जताते जरूर मिल जाते हैं, लेकिन सावधानी को सभी ने सिरे से त्याग दिया है। घर, बाहर और बाजार जहां भी नजर जाती है, आम लोग बिल्कुल बेफिक्र दिख रहे हैं। कहीं भी किसी स्तर पर सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल नहीं रखा जा रहा है। मास्क लगाए इक्का-दुक्का लोग ही दिख जाते हैं अन्यथा सभी बेफिक्री में एक-दूसरे के आसपास खड़े रहने पर भी खुले मुंह-नाक के साथ गपबाजी करते मिल जा रहे हैं।

सड़कों पर सरपट दौड़ रहे वाहन

सड़कों पर ऑटो और टोटो सरपट दौड़ रहे हैं। भीड़ और जाम आम बात बन कर रह गयी है। बस से यात्रा करने से पहले व सफर के दौरान यात्रियों को कोविड-19 संबंधित नियमों का पालन करना बेहद जरूरी बताया गया है। जिला प्रशासन व परिवहन विभाग वाहन मालिक, ड्राइवर और कंडक्टर के साथ यात्रियों को भी जागरूक करने में लगा हुआ है। किसी को भी बिना मास्क के बस में सफर की अनुमति नहीं है। वाहनों में चढ़ते-उतरते समय उचित शारीरिक दूरी का पालन करना है। साथ ही वाहनों के अंदर पान, खैनी, तम्बाकू और गुटखा के प्रयोग पर रोक लगाई गई है। ऐसा करते हुए पकड़े जाने पर उससे जुर्माना वसूलने का प्रावधान किया गया है। लेकिन सब बस नियम भर बन कर रह गया है। किसी चीज का डर कहीं नहीं दिख रहा है। सब आम दिनों की तरह सामान्य दिनचर्या में ढल गए हैं।

लॉकडाउन का असर नदारद, नवादा जिले में सब हो गया सामान्य

नवादा बाजार में अब लॉकडाउन को कोई असर नहीं दिख रहा है। यूं तो आगामी छह सितम्बर तक लॉकडाउन है लेकिन सुबह से लेकर देर शाम तक फल और हरी सब्जियों की दुकानें लग रही हैं। इस जरूरी दुकानदारी के आड़ में शहर के विभिन्न दुकान भी निर्बाध रूप से खुल रहे हैं। सबसे खास बात यह है कि आमजन जरूरी खरीदारी के नाम पर शहर के बाजारों तक पहुंच रहे हैं और फिर येन-केन-प्रकारेण दिनभर यहीं के हो कर रह जा रहे हैं। सामान्य दिनों की तरह हर तरफ लोग खरीदारी करते दिख रहे हैं। अन्य तमाम तरह के कार्य भी लोग बिना किसी भय के करते मिल जा रहे हैं। सबसे आश्चर्य तो इस बात का है कि प्रशासन के आदेश पर अमल हो रहा है या नहीं, इसे देखने के लिए एक भी अफसर बाहर नहीं निकल रहे हैं। सभी विक्रेता कोरोना के संक्रमण को हल्के में ले रहे हैं।

गली-मोहल्लों की स्थिति और भी दयनीय

इस समय जिले भर में कोरोना का कहर जारी है। इसके बावजूद शहर समेत जिले भर के गली-मोहल्लों में बिना मास्क पहने लोग घूमते नजर आ रहे हैं। उन्हें कतई कोरोना का भय नहीं है। ऐसे में ये लोग खुद के अलावा अपने परिवार को भी मुश्किल में डाल रहे हैं। जब सड़क की ओर जाते हैं तो पुलिस के भय से कभी-कभार मास्क पहन लेने वाले लोग भी जैसे ही गली-मोहल्लों में आते हैं, चेहरे से मास्क उतार लेते हैं। पढ़े-लिखे लोग भी ऐसी गलती कर रहे हैं। जिला प्रशासन द्वारा मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया गया है। बिना मास्क पहने कोई भी व्यक्ति घर से बाहर दिखता है, तो उस पर दंडात्मक कार्रवाई भी की जा रही है। लेकिन मास्क पहन कर रखने के नियम का अनुपालन अब भी पूरी तरह से नहीं हो रहा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Increased crowd in market fear of corona also disappeared