ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार नवादाव्यक्ति के विकास में मातृभाषा का अहम योगदान

व्यक्ति के विकास में मातृभाषा का अहम योगदान

अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर मगहियन ने मगही भाषा के उन्नयन का संकल्प दोहराया। मिर्जापुर में आयोजित बैठक में मगही मगध नागरिक संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष पारस कुमार सिंह ने कहा कि व्यक्ति के विकास में...

व्यक्ति के विकास में मातृभाषा का अहम योगदान
हिन्दुस्तान टीम,नवादाThu, 22 Feb 2024 02:30 PM
ऐप पर पढ़ें

नवादा, नगर संवाददाता।
अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर मगहियन ने मगही भाषा के उन्नयन का संकल्प दोहराया। मिर्जापुर में आयोजित बैठक में मगही मगध नागरिक संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष पारस कुमार सिंह ने कहा कि व्यक्ति के विकास में मातृभाषा का अहम योगदान होता है। उसके सर्वांगीण विकास की आधारशिला मातृभाषा होती है। मातृभाषा व्यक्ति को समाज से जोड़े रखता है। उदाहरण के तौर पर यदि किसी की मातृभाषा मगही है तो वह व्यक्ति अपने लोगों से मिलकर अपनत्व का अनुभव करता है और अपनी संस्कृति एवं संस्कारों पर गर्व का अनुभव करता है। भाषा सिर्फ अभिव्यक्ति का माध्यम ही नहीं है बल्कि समाज व विरासत को सहेजने का काम करती है।

मातृभाषा के प्रति लोगों में जागृति पैदा करने के लिए प्रतिवर्ष 21 फरवरी को अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मनाने के लिए 1999 में यूनेस्को द्वारा घोषणा की गई थी। आज इस मौके पर अपनी मातृभाषा मगही को संवैधानिक दर्जा दिलाने के लिये मुहिम चला रही संसथा मगही मगध नागरिक संघ केन्द्र सरकार से अनुरोध करती है कि मगध के स्वाभिमान के प्रतीक मगही भाषा को जल्द से जल्द आठवीं अनुसूची में शामिल कर मगध वासी को सम्मान दे और मातृभाषा दिवस की सार्थकता पूरी करे। इस मौके पर भागवत प्रसाद, उमेश प्रसाद, रविन्द्र सिंह, प्रदीप कुमार, विमल प्रसाद आदि लोगों ने मगही भाषा को सम्मान दिलाने के प्रति अपना जोश दिखाया।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें