DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › नवादा › नकली उर्वरक मामले में आरोपित पर एफआईआर दर्ज
नवादा

नकली उर्वरक मामले में आरोपित पर एफआईआर दर्ज

हिन्दुस्तान टीम,नवादाPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 03:30 PM
नकली उर्वरक मामले में आरोपित पर एफआईआर दर्ज

वारिसलीगंज। निज संवाददाता

वारिसलीगंज नगर परिषद के वार्ड संख्या पांच निवासी भोला प्रसाद साव के खिलाफ नकली डीएपी उर्वरक बनाने के मामले में प्रखंड कृषि पदाधिकारी पवन कुमार के आवेदन पर स्थानीय थाना में प्राथमिकी दर्ज की गई है।

प्राथमिकी के अनुसार, आरोपित भोला प्रसाद कई महीनों से अपने मेन रोड, मुड़लाचक स्थित घर के तहखाने में पारस डीएपी, इफको डीएपी समेत अन्य कई ब्रांडों का डुप्लीकेट डीएपी बनाकर जिले के कई बाजारों समेत अन्य कई बाजार में बिक्री करवाता था। गुप्त सूचना के तहत शुक्रवार को जिला कृषि पदाधिकारी लक्ष्मण प्रसाद तथा अनुमंडल कृषि पदाधिकारी संतोष कुमार स्थानीय पुलिस की सहायता से कारोबारी भोला प्रसाद के मकान स्थित तहखाने में छापेमारी की। वहां मौके से विभिन्न कंपनियों के सैकड़ों बोरा डीएपी उर्वरक तथा नया रैपर प्रिंट खाली बोरा सहित बोरा पैकिंग करने वाला दो सिलाई मशीन, वेट मशीन, विभिन्न रंगों का प्लास्टिक धागा आदि पाया गया। इस दौरान अधिकारियों ने डुप्लीकेट उर्वरक का नमूना, इफको का रैपर छपा बोरे का नमूना लेने के बाद तहखाने को सील कर दिया है। बीएओ द्वारा दर्ज प्राथमिकी में कारोबारी भोला प्रसाद को नामजद किया गया है।

प्राथमिकी दर्ज होते ही पुलिस की सक्रियता बढ़ गई है। छापेमारी बाद बाजार के डुप्लीकेट एवं अधिक कीमत वसूली करने वाले उर्वरक विक्रेताओं में हड़कंप मच गया है। गौरतलब है कि नकली उर्वरक निर्माता भोला प्रसाद का मुख्य कारोबार सीमेंट का होल सेल करता है। उसने एसीसी सीमेंट का डीलरशिप ले रखा है। इसकी आड़ में अन्य कई नामी कंपनियों का सीमेंट रिबैग करने का भी कार्य करता है। इस बाबत एक दशक में कई बार प्रशासन एवं पुलिस की छापेमारी भोला एवं शंकर के प्रतिष्ठान में हो चुकी है। इस प्रकार के मामले में भोला एवं शंकर जेल भी गए थे। शंकर अभी भी जेल में ही है।

संबंधित खबरें