ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार नवादासहूलियत : वारिसलीगंज से नवादा तक 25 मई से डबल लाइन पर दौड़ेंगी ट्रेनें

सहूलियत : वारिसलीगंज से नवादा तक 25 मई से डबल लाइन पर दौड़ेंगी ट्रेनें

किऊल-गया रेलखंड के यात्रियों की सुविधा में अब बढ़ोत्तरी हो जाएगी। वारिसलीगंज से लेकर नवादा स्टेशन के बीच अब आगामी 25 मई से डबल लाइन पर ट्रेनें दौड़ने...

सहूलियत : वारिसलीगंज से नवादा तक 25 मई से डबल लाइन पर दौड़ेंगी ट्रेनें
हिन्दुस्तान टीम,नवादाMon, 13 May 2024 11:45 AM
ऐप पर पढ़ें

नवादा, हिन्दुस्तान संवाददाता।
किऊल-गया रेलखंड के यात्रियों की सुविधा में अब बढ़ोत्तरी हो जाएगी। वारिसलीगंज से लेकर नवादा स्टेशन के बीच अब आगामी 25 मई से डबल लाइन पर ट्रेनें दौड़ने लगेंगी। रेल सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, वारिसलीगंज से नवादा तक दोहरीकरण का कार्य पूरा 09 मई तक पूरा कर लिया गया है जबकि इसी दिन से नए ट्रैक पर ट्रायल शुरू कर दिया गया है। स्पीड ट्रायल के लिए आसपास के गांवों के लोगों को पटरी से दूर रहने को लेकर एहतियातन माइकिंग कराई जा रही है ताकि कोई दुर्घटना आदि घटित न हो जाए। इस क्रम में नन-इंटरलॉकिंग आदि का कार्य भी तेजी से किया जा रहा है। इसको लेकर वरीय अधिकारियों की आवाजाही लगी है। एनआई और स्पीड ट्रायल का काम पूर्ण हो जाने के बाद 25 मई को कमीशनिंग होगी और नए डबल लाइन से परिचालन शुरू कर दिया जाएगा। कमीशनिंग के लिए दानापुर रेल मंडल के वरीय अधिकारी पहुंचेंगे।

नवादा के नए स्टेशन से होने लगेगा परिचालन

डबल लाइन की शुरुआत के साथ ही नवादा स्थित नए स्टेशन पर ट्रेनें रूकने लगेंगी। स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर दो का काम पूर्ण कर लिया गया है। इस पर ही ट्रेनें रूकेंगी। नई पटरी और नए प्लेटफॉर्म के आरंभ के बाद प्लेटफॉर्म नंबर एक से जुड़े शेष कार्य पूर्ण किए जाएंगे। चूंकि डबल लाइन पर परिचालन के बाद से मेल आदि का कार्य नवादा स्टेशन पर शुरू हो जाएगा, जिससे किसी हद तक अनियमित रेल परिचालन से मुक्ति मिल जाएगी। इन दिनों में तिलैया और वारिसलीगंज में ही मेल कराए जाने के कारण एक से लेकर दो घंटे का अनावश्यक विराम हर दिन झेलने की नौबत बनी रहती है। इस कारण सारी पैसेंजर ट्रेनें लगभग लेटलतीफ ही चल रही हैं।

-------------------

दोहरीकरण का शेष कार्य शीघ्र पूरा होने की जगी उम्मीद

नवादा। किऊल-गया रेलखंड पर दोहरीकरण का कार्य अब जल्द ही पूरी हो जाने की उम्मीद जग गयी है। वारिसलीगंज से नवादा स्टेशन तक डबल लाइन की सेवा चालू हो जाने के बाद सिर्फ नवादा स्टेशन से तिलैया जंक्शन के बीच ही दोहरीकरण कार्य शेष रह जाएगा। हालांकि इस खंड में भी स्लीपर और पटरी बिछाने का कार्य जारी है। पुल-पुलिया का निर्माण कार्य भी गति पकड़ चुकी है। ऐसे में रेलवे के दावे के अनुकूल यह उम्मीद जग गयी है कि वर्ष 2024 के अंत तक किऊल-गया रेलखंड की दोनों पटरियों पर धड़ल्ले से ट्रेनों का परिचालन निर्बाध रूप से संभव हो सकेगा।

----------------------

अब 15 किमी का कार्य रह जाएगा शेष

नवादा। वर्तमान में 34 किमी का दोहरीकरण कार्य शेष रह गया था। इसमें से वारिसलीगंज से नवादा के बीच 19 किमी तक परिचालन 25 मई से संभावित है। ऐसे में अंतिम चरण में नवादा से तिलैया के बीच महज 15 किमी का कार्य शेष रह जाएगा। नवादा से चातर के बीच पुल-पुलिया वाले भाग को छोड़कर लगभग 10 किमी तक स्लीपर बिछा लिया गया है। नवादा से तिलैया के बीच खुरी नदी पर पुल के अलावा दो अन्य छोटी पुलिया का कार्य ही शेष रह गया है।

-----------------------

तीन साल पीछे चल रही है दोहरीकरण योजना

नवादा। केजी रेलखंड के दोहरीकरण के कार्य का प्रावधान रेलवे ने 2016 में किया था। वित्तीय वर्ष-2020-21 के बजट में 280 करोड़ की लागत वाली इस परियोजना को मार्च 2021 तक पूरा करने का लक्ष्य था, लेकिन तीन साल अतिरिक्त बीत जाने तक भी योजना जारी है। दोहरीकरण के पहले चरण में मानपुर से वजीरगंज तक लगभग 36 किलोमीटर डबलिंग का काम 2019 में ही पूरा हो गया था। दूसरे चरण में वजीरगंज से तिलैया तक 18 किलोमीटर का कार्य भी 2022 के अगस्त में पूरा हो गया था। तीसरे चरण में शेखपुरा से लखीसराय 25 किलोमीटर का कार्य फरवरी 2023 में पूरा हो गया एवं शेखपुरा से काशीचक तक 15 किलोमीटर तक दोहरीकरण जून 2023 तक पूरा कर लिया गया था। इसके बाद काशीचक से वारिसलीगंज स्टेशन तक 23 जनवरी 2024 तक दोहरीकरण का कार्य कर लिया गया। अब 25 मई से एक नया अध्याय जुड़ जाएगा। किऊल-गया के बीच 124 किलोमीटर सिंगल रेल लाइन को डबल करने के लिए बजट में प्रावधान के साथ ही विद्युतीकरण का कार्य भी होना था, जो 2018 में पूरा हो चुका है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।