Appeal from social media on cyber fighter group - साइबर सेनानी ग्रुप पर सोशल मीडिया से अपील DA Image
21 नबम्बर, 2019|12:56|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साइबर सेनानी ग्रुप पर सोशल मीडिया से अपील

default image

साइबर सेनानी ग्रुप पर सोशल मीडिया के लिए रविवार को गृह विभाग द्वारा जारी अपील नवादा पुलिस द्वारा पोस्ट की गयी। इसके माध्यम से सोशल मीडिया पर अनावश्यक भ्रम व अफवाह फैलाने वाले पोस्ट को जारी करने, कमेंट करने व शेयर करने से बचने की अपील करते हुए इसे कानूनन अपराध बताया गया है व इसके लिए सजा के प्रावधानों से भी लोगों को अवगत कराया गया है। कहा गया कि ऐसे मैसेज अथवा वीडियो पोस्ट या शेयर न करें जिससे किसी वर्ग विशेष की भावनाएं आहत हो।

आपसी सौहार्द भंग करने वाले संदेश का प्रसारण गंभीर अपराध

ग्रुप में बताया गया है कि किसी भी सोशल साइट में ग्रुप के मैसेज, वीडियो या पेज को लाइक करने, सब्सक्राइब करने या फॉलो करने से पहले सावधानी बरतें। तनाव फैलाने वाले मैसेज न तो अपलोड करें न ही शेयर करें। किसी भी सूचना को सत्यापित कर इसकी खबर प्रशासन को दें। भाईचारे का माहौल बनाये रखें व अपने क्षेत्र के साइबर सेनानी ग्रुप को अवगत करा सकते हैं। सोशल मीडिया के माध्यम से आपसी सौहार्द भंग करने वाले संदेश का प्रसारण गंभीर अपराध है। इसमें तत्काल गिरफ्तारी का प्रावधान है। धर्म, समुदाय व जातियों अथवा धार्मिक संगठनों के बीच सोशल मीडिया से माहौल बिगाड़ने वाले संदेश का प्रसारण दंडनीय अपराध है। आखिर में कानून व शांति व्यवस्था बनाये रख जिला प्रशासन व पुलिस को सहयोग करने का अनुरोध किया गया है।

इन अपराध से जुड़े मामलों में सजा का प्रावधान

- आईटी एक्ट के तहत तीन वर्ष सजा व पांच लाख जुर्माना

- इसे दुहराने पर पांच वर्ष की सजा व दस लाख का जुर्माना

- आईपीसी 153 ए के तहत तीन वर्ष की सजा व जुर्माना भी

- आईपीसी 153 बी के तहत तीन वर्ष की सजा व जुर्माना भी

- आईपीसी 295 ए के तहत तीन वर्ष की सजा व जुर्माना भी

- आईपीसी 500/505 में दो-तीन वर्ष की सजा व जुर्माना भी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Appeal from social media on cyber fighter group