DA Image
18 अक्तूबर, 2020|5:02|IST

अगली स्टोरी

फर्जी हॉलमार्किंग मामले में जेल भेजा गया आरोपित

default image

फर्जी हॉलमार्किंग का सोना मामले में नगर थाने में मंगलवार की देर रात प्राथमिकी दर्ज करायी गयी। नगर थाने के मोतीबिगहा मोहल्ले के श्याम किशोर वर्मा के बेटे व गोनावां काली मंदिर स्थित बेला ज्वेलर्स के संचालक टिंकू कुमार ने प्राथमिकी में फर्जी हॉलमार्किंग का सोना बेचने के नाम पर लाखों की ठगी करने का आरोप लगाया है।

आरोप है कि 17 सितम्बर को उसकी दुकान से उस युवक ने फर्जी हॉलमार्किंग का सोना देकर उससे एक लाख दस हजार रुपये की धोखाधड़ी कर ली थी। 29 सितम्बर को उसके दोस्त नवादा शहर के गढ़ पर मोहल्ले में स्थित सुहाग जेम्स ज्वेलर्स के संचालक व स्व. गंगा बिशुन प्रसाद के बेटे राकेश कुमार ने उसे फोन पर बताया कि एक युवक फर्जी हॉलमार्किंग का सोना लेकर आया है। टिंकू उसके दुकान पर पहुंचा व युवक को पहचान लिया। उसी ने 17 सितम्बर को फर्जी हॉलमार्किंग का सोना देकर उसके साथ ठगी की थी। वह 29 सितम्बर को चार चूड़ी बेचने के लिए लेकर आया था। इसके एवज में एक लाख की उसने मांग की थी। उसके साथ एक महिला भी थी व निकल भागी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। उसकी बाइक, मोबाइल आदि पुलिस ने जब्त कर लिया। गिरफ्तार युवक चितरंजन कुमार गया जिले के बेलागंज थाने के कचनामा गांव के अभय कुमार सिंह का बेटा बताया जाता है। इधर, पुलिस द्वारा उसे बुधवार को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया।

फर्जी हॉलमार्किंग का धंधा परवान पर

बताया जाता है कि जिले में फर्जी हॉलमार्किंग का धंधा परवान पर है। इसके शिकार उपभोक्ताओं के अलावा सर्राफा कारोबारी भी हो रहे हैं। हाल के दो- तीन महीनों में लाखों की चपत इन कारोबारियों को उठानी पड़ी है। हॉलमार्क का मुहर लगे होने के कारण आम उपभोक्ता के साथ- साथ सर्राफा कारोबारी भी झांसे में आ जा रहे हैं। हॉलमार्क का मुहर लगे सोने में महज दस फीसदी ही सोना होता है। ऐसे में कारोबारियों को काफी नुकसान उठाना पड़ा है। ढाई माह पूर्व सुहाग जेम्स ज्वेलर्स के संचालक राकेश कुमार ठगी का शिकार हो चुका है। अभी हाल के दिनों में ठगी का शिकार होने वालों में नारदीगंज के वीएस ज्वेलर्स का संचालक विकास कुमार, सब्जी मार्केट नवादा स्थित नटराज ज्वेजर्स का संचालक व सोनारपट्टी के बहुरानी ज्वेलर्स का संचालक शामिल हैं।

गिरोह के सरगना की तलाश में पुलिस

बताया जाता है कि हॉलमार्किंग की आड़ में नकली सोना का धंधा करने वालों का एक संगठित गिरोह है। पकड़े गये युवक चितरंजन कुमार ने गिरोह का सरगना समेत कुछ साथियों के नाम पुलिस को बताये हैं। पुलिस इनके नाम व पतों की पुष्टि कर इन अपराधियों तक पहुंचने की कोशिश में है। पुलिस के मुताबिक इस मामले का अनुसंधान शुरू कर दिया गया है। अनुसंधान में नामों का खुलासा होने पर कार्रवाई होगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Accused sent to jail in fake hallmarking case