DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आओ राजनीति करें: शिक्षा को रोजगार की गारंटी से जोड़ना होगा

नवादा में आओ राजनीति करें संवाद का आयोजन

मां, बहन, पत्नी समेत क ई अन्य रिश्तों और परिवार को सहेजने वाली नारी ही आज सबसे अधिक शोषित हो रही हैं। समय आगे बढ़ रहा है, लेकिन ऐसा लग रहा है कि महि लाएं ही पीछे धकेली जा रही हैं। महि लाओं के सशक्तीक रण के बिना लोक तंत्र की मजबूती और विकास असंभव है। आज के समय में महिलाओं के लिए सबसे जरू री है शिक्षा और सुरक्षा। गुरुवार को आपके अपने अखबार हिन्दुस्तान के विशेष अभियान ‘आओ राजनीति क रें, अब नारी की बारी' के तहत ये बातें प्रमुखता से प्राध्यापकों व छात्राओं ने उठाई।.

शहर के आरएमडब्ल्यू कॉलेज में आयोजित संवाद के तहत मुख्य रूप से यह बात उभर कर सामने आयी कि पढ़ाई को रोजगार की गारंटी से जोड़ना होगा तब ही पढ़ाई की सार्थकता है। कार्यक्रम के दौरान पढ़ाई-लिखाई से लेकर अधिकार व आरक्षण की बात उठाई गयी। तीन तलाक तक की भी चर्चा हुई। सभी का मानना था कि आज कोई भी ऐसा क्षेत्र नहीं है, जिसमें नारी आगे बढ़कर परचम नहीं लहरा रही हैं। ऐसे में संविधान में जितने हक महिलाओं को दिए गए हैं उस पर अमल की वकालत सभी ने की। छात्राओं ने स्पष्ट कहा कि हमारी शिक्षा भी दूसरों पर निर्भर है। .

अभिभावक सोचते हैं कि बेटी ज्यादा पढ़ गयी तो दहेज ज्यादा देना होगा। कोई लड़की बाहर काम करने लगे तो उसपर लांछन लगने लगते हैं। ऐसी मानसिकता को बदलने की जरूरत है। नारी सुरक्षा को लेकर बने कानून का सख्ती से पालन जरूरी है। प्राध्यापकों ने कहा कि कानून का सख्ती से पालन क राना जरूरी है। आज महिलाएं बढ़ रही हैं लेकिन राह में रोड़ा भी अनेक है। इस बाधा को आत्मशक्ति और आत्मविश्वास से ही दूर किया जा सकता है। यानि अधिकार पाने के लिए खुद को भी तैयार करना होगा। 

महिलाओं को हर क्षेत्र में आगे बढ़ने की जरूरत है। हमें ऐसी सरकार चाहिए जो नारी शक्ति के लिए बड़ी सोच रखता हो।
-डॉ गीता सिन्हा, प्राचार्य

जब तक शिक्षा को रोजगार से नहीं जोड़ा जाएगा तब तक नारियों की स्थिति में स्थायी बदलाव संभव नहीं है। 
-डॉ स्मिता कुमारी, शिक्षिका

बेटी बचाओ के साथ बेटी पढ़ाओ का नारा हकीकत में बदले, यह जरूरी है। सरकारें सिर्फ योजना नहीं बनाए, इस पर अमल भी करे। 
-पूनम कुमारी,  शिक्षिका

नारी का उन्नयन आत्मबल, संकल्प और दृढ़ता से संभव है। और नारियों को सबल बनाने का काम हमारी सरकार करे। 
-संगीता, शिक्षिका

हर क्षेत्र में महिलाओं को हक मिले। बराबरी का दर्जा मिले। दहेज जैसी कुरीतियों से बचाने का मजबूत हथियार शिक्षा बन सके। 
-प्रेरणा कुमारी, छात्रा, पार्ट-1

तकनीकी शिक्षा और उच्चतर शिक्षा महिलाओं को शक्ति देगा। यह अवसर मिले। सशक्तीकरण का यह प्रमुख साधन होगा। 
    - फरहीन नाज, छात्रा, पार्ट-1

नारी समृद्धि के लिए जरूरी है कि उसे संसाधन से परिपूर्ण बनाया जाए। पूरी व्यवस्था का लाभ उसे मिले।
-जरनैन, छात्रा, पार्ट-1 

नारी के सम्मान की  फिक्र सभी करने लगेंगे तब ही सही  राम राज आएगा।
-पूनम कुमारी, छात्रा, पार्ट-1

महिलाओं को अवसर मिले। सरकार ऐसे मौके बनाए व नारी इसका लाभ उठा सके।
- दीपा  कुमारी, छात्रा, पार्ट-1

नियम और कानून का पालन हो। सख्ती के साथ नारी उत्थान पर काम हो।

-प्रगति कुमारी, छात्रा, पार्ट- 1

पीजी की पढ़ाई नवादा में भी हो। बाहर जा कर पढ़ने की नौबत न रहे। शिक्षा ही नारियों का असली गहना है। .

-नेहा कुमारी, छात्रा, पार्ट-1

शिक्षा, सुरक्षा और मूलभूत सुविधा नारी उत्थान का मूल मंत्र है। इस पर ध्यान जरूरी है।
-पूजा कुमारी, छात्रा, पार्ट-1

शिक्षित महिला समाज को दिशा देने वाली होती है। सरकार सही दिशा दे सके तो सच्चा विकास होगा। 
-निकिता कुमारी, छात्रा, पार्ट-1

महिलाएं अपने बूते जो निर्णय लें वह प्रभावी होने लेग। यही सच्चा विकास होगा।
-प्रीति कुमारी, छात्रा, पार्ट-1


महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण हर क्षेत्र में हो। सामाजिक बदलाव व विकास तब ही संभव हो सकेगा।

-ब्यूटी कुमारी, छात्रा, पार्ट-3

छात्राओं को शिक्षा के साथ-साथ सेल्फ डिफेंस की शिक्षा भी मिलनी चाहिए।
-अर्चना कुमारी, छात्रा, पार्ट-1

नारी सुरक्षा के कानून का सही तरीके से पालन हो। संवैधानिक अधिकार दे कर ही नारी सशक्तीकरण संभव है। .

-रचना कुमारी, छात्रा, पार्ट-1

हर क्षेत्र में आधी आबादी के हिसाब से महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण दिया जाये।
-सोनी कुमारी, छात्रा, पार्ट-1

महिलाओं के आत्मविश्वास को बढ़ाने के लिए सरकार पुख्ता पहल करे। सिर्फ घोषणाएं कर देना ही काफी नहीं हैं।
-तरन्नुम जहां, छात्रा, पार्ट-3

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:aao rajneeti karein Education must be linked to employment guarantee