DA Image
3 अप्रैल, 2020|8:44|IST

अगली स्टोरी

लॉकडाउन में सामाजिक दूरियों को कम कर रहा व्हाट्सएप ग्रुप दूर कर रहे नीरसता

‘लॉकडाउन का मतलब पूरी तरह लॉकडाउन रहेगा। भले ही आपस में नहीं मिल सकते, मगर सभी अपने विचार व जानकारी इस ग्रुप में जरूर डालिए। हां, अंकल ज्यादा बाहर निकले तो डंडे भी पड़ेंगे। कोरोना से बचना है तो अपने घर में सुरक्षित रहना ही पड़ेगा। कोरोना के भागने के बाद सभी आपस में मिलकर पार्टी करेंगे।’ कोरोना की रोकथाम के लिए पूरे देश में लॉकडाउन है। घरों में रहने से लोग एक दूसरे से आमने-सामने नहीं मिल पा रहे हैं। इस नीरसता को दूर करने के लिए मोहल्लेवासी व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर एक-दूसरे की खबर ले रहे हैं।
ग्रुप में बुजुर्ग, युवा, महिलाएं व पुरुष भी जुड़े हैं। गुड मॉनिंग से दिन की शुरुआत करते हैं और रात में गुड नाइट मैसेज करते हैं। इस ग्रुप में लॉकडाउन के कारण शहर, दूसरे राज्य व कई देशों की स्थिति पर भी चर्चा होती है। वहीं, रोजमर्रा के सामान, चावल-दाल व सब्जियों के भाव की भी जानकारी ली जा रही है। किसी घर में कोई बीमार तो नहीं इसकी भी खोजबीन की जा रही है। बैरिया स्थित राजेंन्द्र नगर में वाटसएप्प ग्रुप बनाने वाले एडमिन कुणाल व रोहित बताते हैं कि मोहल्ले के लोग सारे दु:ख-सुख एक-दूसरे से हमेशा शेयर करते आ रहे हैं। भले ही अलग-अलग घर हैं, मगर सारा मोहल्ला एक ही परिवार है। इस कोरोना के कारण हमारी दूरिया नहीं बढ़े, इसको लेकर ग्रुप बनाया गया है।

 

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:WhatsApp groups reducing social distance in lockdown