DA Image
7 नवंबर, 2020|6:55|IST

अगली स्टोरी

छूटे ट्रांसजेंडरों का नहीं बना मतदाता पहचान पत्र

default image

बिहार विधानसभा चुनाव सामने है, और जिले के कई ट्रांसजेंडरों का मतदाता पहचान पत्र नहीं बन सका है। ऐसे में उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। जिले में सितंबर माह में ट्रांसजेंडरों के कल्याण के लिए बाल संरक्षण इकाई कार्यालय में सुविधा केन्द्र बनाया गया था। इसमें कमेटी ने सबसे पहले छूटे हुए ट्रांसजेंडरों का मतदाता पहचान पत्र बनवाने का निर्णय लिया था।

निर्वाचन विभाग के आंकड़ों के अनुसार अब तक 87 ट्रांसजेंडर मतदाता बने है। छूटे हुए ट्रांसजेंडरों की खोज कर मतदाता सूची में नाम जोड़वाना व पहचान पत्र दिलवाना था, मगर अभी तक कई सारे ट्रांसजेंडर इससे वंचित है। अब चुनाव सामने है। ऐसे में इनका पहचान पत्र समय पर बन पाना मुश्किल है। ट्रांसजेंडर कमेटी की सदस्य मोनी कुमारी ने बताया कि स्टेशन और यहां-वहां रहकर गुजारा करती हूं। स्थायी ठिकाना नहीं होने के कारण मेरे साथ-साथ करीब 10-12 लोग फॉर्म नहीं भर सके है।

इस संबंध में ट्रांसजेंडर कल्याण समिति के सदस्य सचिव सह बाल संरक्षण अधिकारी चन्द्रदीप कुमार ने बताया कि ट्रांसजेंडर का मतदाता सूचि में नाम जोड़ने के लिए बीएलओ को उनके इलाके में भेजा गया था, लेकिन स्थायी या स्थानीय ठिकाना या कोई कागजात उपलब्ध नहीं होने से एक का भी फॉर्म नहीं भरा सका। अब चुनाव बाद ही उनका पहचान पत्र बन सकेगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Voter ID card is not made for transgenders