DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › मुजफ्फरपुर › खरौना डीह का ‘मिनी मु्ंगेर बनाने के फिराक में था विपिन
मुजफ्फरपुर

खरौना डीह का ‘मिनी मु्ंगेर बनाने के फिराक में था विपिन

हिन्दुस्तान टीम,मुजफ्फरपुरPublished By: Newswrap
Sat, 06 Jun 2020 09:22 PM
खरौना डीह का ‘मिनी मु्ंगेर बनाने के फिराक में था विपिन

हिन्दुस्तान फॉलोअप :: फोटो : सोमनाथ - हर प्रकार के हथियार का होता था खरौना डीह गांव में निर्माण व सप्लाई - रुपये कमाने के चक्कर में दर्जनों युवक करते थे आर्म्स सप्लाई का काम - रसूलपुर, सुमेरा, मथुरापुर, पताही के युवक करते थे कमीशन पर काम मुजफ्फरपुर। वरीय संवाददाता, सोमनाथ सत्योम पश्चिमी पुलिस अनुमंडल का कुढ़नी थाना क्षेत्र आर्म्स सप्लाई व शराब के धंधा के लिए शॉफ्ट जोन बना हुआ है। अर्द्धनिर्मित फॉरलेन की आड़ में धंधेबाज शाम ढलते अपना जाल पसारने लगते हैं। पुलिस पदाधिकारी ने बताया कि खरौना डीह से गिरफ्तार विपिन बिहारी पुलिस की सूची में आर्म्स सप्लायरों में टॉप पर था। लेकिन, पुलिस उसतक पहुंच नहीं पा रही थी। कई प्रकार के लोगों का संरक्षण भी मिला हुआ था। वह खरौना डीह को ‘मिनी मुंगेर बनाने के फिराक में था। अपने गांव व इसके आसपास के युवकों को अपने गैंग में शामिल भी कर लिया था। कमीशन देकर धंधा कराता था। खुद बड़े असाइंमेंट की डिलिवरी रात के अंधेरे में करता था। पुलिस के मुताबिक, छोटे मोटे अपराधी व लुटेरा इसके घर आकर आर्म्स ले जाते थे। पत्नी हिसाब रखती थी। शुक्रवार को भी पुलिस अगर दोपहर में रेड करती तो एक दर्जन से अधिक शातिर पुलिस के हत्थे चढ़ सकते थे। लेकिन, शाम में रेड हुआ। इससे पहले वे लोग आर्म्स की डीलिंग कर चले गए। पुलिस वैसे लोगों को भी तलाश रही है। अधिकांश युवक खुरौना डीह के आसपास के ही हैं। रसूलपुर, सुमेरा, मथुरापुर, पताही के रहने वाले है। ग्रामीणों ने बताया कि वे लोग पुलिस की कार्रवाई से खुश है। जो इससे दुखी है। वे गांव से फरार हैं। पुलिस के रडार पर उस इलाके के कुछ जनप्रतिनिधि भी है। जिनका पूर्व में अपराधिक इतिहास भी रहा है। गांव में पसरा था सन्नाटा, हर घर में हो रही थी चर्चा : छापेमारी के दूसरे दिन शनिवार को खरौना डीह गांव में सन्नाटा पसरा हुआ था। लोगों का रहवट बिल्कुल नहीं था। लेकिन, गांव में आने वाले हरएक बाहरी लोगों को शक की निगाह से देख रहे थे। ग्रामीणों का कहना था कि इस मुद्दे पर कोई नहीं बोलेगा। सबको अपने जान व सम्मान का डर होता है। लेकिन, आर्म्स फैक्ट्री का चर्चा हर घर में हो रही है। सोया नहीं होता तो भाग जाता विपिन : विपिन के भाई सोनू ने बताया कि छापेमारी के दौरान वह घर के बरामदे में सो रहा था। वह बाहर था। पुलिस उसे ही विपिन समझ कर दबोच ली। लेकिन, इसका विरोध किया तो पुनिस ने उसका परिचय पूछा। इसपर वह बताया कि वह विपिन नहीं सोनू है। वह शौचालय गया है। लेकिन, तबतक पुलिस घर में घुस चुकी थी और विपिन को सोता पकड़ लिया। कमरे में पुलिस ने जड़ा ताला : विपिन के मकान में तीन कमरा है। एक में विपिन पत्नी के साथ रहता था। दूसरे में दो भाई उसके रहते थे। और तीसरे में उसका गन फैक्ट्री चलता था। आर्म्स, बारूद व औजार उसी कमरे में रखता है। पुलिस ने उस कमरे में ताला जड़ दिया है। बाद में उस कमरे की फॉरेंसिक टीम से जांच करायी जाएगी। जेल से आने के बाद विपिन खेती-किसानी में जुट गया था। घर के अंदर हथियार और कारतूस की फैक्ट्री चला रहा है, हमें इसकी भनक तक नहीं थी। बयान : मुजफ्फरपुर पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। हथियार के साथ कुछ अद्धनिर्मित सामान भी मिले है। मुख्य आरोपित गिरफ्तार हो गया है। मैनुअल व वैज्ञानिक तरीके से छानबीन की जा रही है। फिलहाल रेड जारी ही है। रेड खत्म होने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। -गणेश कुमार, आईजी चंपारण रेंज के दो सब-इंस्पेक्टर से जुड़ा था आर्म्स फैक्ट्री संचालक मुजफ्फरपुर। वरीय संवाददाता तुर्की ओपी के हत्थे चढ़ा विस्फोटक फैक्ट्री के संचालक से दूसरे दिन शनिवार को भी गहनता से पूछताछ जारी रही है। इस दौरान विपिन बिहारी चौधरी ने कई चौकाने वाली जानकारी पुलिस को दी है। वैज्ञानिक जांच के दौरान पुलिस को चंपारण रेंज के दो सब-इंस्पेक्टर के भी विपिन के अच्छे संबंध सामने आये हैं। इसके अलावा गंगा से सटे इलाके के दो दबंग जनप्रतिनिधि के भी संबंध होने का प्रमाण पुलिस को मिले हैं। हालांकि, जिला पुलिस फिलहाल इस मुद्दे पर बोलने से परहेज कर रही है। शिवहर, मोतिहारी में छापेमारी, संदिग्ध से हो रही पूछताछ : दूसरी ओर विपिन बिहारी की निशानदेही पर करीब आधा दर्जन टीमें मुजफ्फरपुर के अलावा शिवहर, मोतिहारी, बेगूसराय और मुंगेर में छापेमारी की। लेकिन रात पुलिस को मामले में ठोस सुराग हाथ नहीं लग सका। नहीं किसी की गिरफ्तारी हुई है। हालांकि कुछ संदिग्ध को पुलिस ने जरुर उठाया है। इससे पूछताछ की जा रही है। ये सभी कहीं न कहीं किसी प्रकार विपिन के संपर्क के लोग है। इसके अतिरिक्त मोतिहारी व शिवहर के दो पुराने आर्म्स सप्लायर के हिस्ट्री भी पुलिस विभाग तलाश रही है। इनमें से एक के साथ विपिन पुलिस के हत्थे करीब 10 साल से अधिक समय पहले पकड़ा भी गया था। मोतिहारी का आर्म्स प्रोड्यूसर है विपिन का गुरू : बताया जाता है कि विपिन पंजाब में आर्म्स बनाना सिखा। उस वक्त मोतिहारी के आर्म्स प्रोड्यूसर ने इसे सिखलाया था। इसके बाद विपिन इस धंधे में आगे निकल गया। हर प्रकार के हथियार बनाने लगा। रॉकेट लॉचर, एसके-47 से लेकर कट्टा तक बड़ी आसानी व सहज तरीके से बना देता है। इसके लिए सामग्री मुंगेर, लखीसराय, जमुई आदि जिलों से मंगवाता था। बिमार भाई को डरा धमका कर कराता था घर में काम : बताया जाता है कि विपिन तीन भाई है। इसमें से दो भाई इसके साथ नहीं रहता है। लेकिन, इसके खौफ की वजह से कोई मुंह भी नहीं खोलता है। विपिन के साथ पुलिस ने उसके एक भाई को भी पुलिस पकड़े हुए है। उससे भी पूछताछ की जा रही है। उसकी संलिप्तता पर छानबीन भी जारी है। वहीं, दूसरा भाई बिमार है। उसके मना करने पर उसे हत्या करने की धमकी देता था।

संबंधित खबरें