ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार मुजफ्फरपुरसक्षमता परीक्षा में पूछे बीपीएससी से भी कठिन सवाल

सक्षमता परीक्षा में पूछे बीपीएससी से भी कठिन सवाल

आक्रोश : अंग्रेजी में सवाल कुछ और उसकी हिन्दी थी कुछ और उर्दू भाषी शिक्षक

सक्षमता परीक्षा में पूछे बीपीएससी से भी कठिन सवाल
हिन्दुस्तान टीम,मुजफ्फरपुरTue, 27 Feb 2024 01:00 AM
ऐप पर पढ़ें

मुजफ्फरपुर, वरीय संवाददाता।
ऑनलाइन सक्षमता परीक्षा में आये कठिन सवालों ने शिक्षकों के पसीने छुड़ा दिये। मुजफ्फरपुर में दरभंगा जिले के शिक्षकों का सेंटर बनाया गया था। परीक्षा भगवानपुर के एक सेंटर पर ऑनलाइन ली गई। पहली पाली सुबह नौ बजे से दोपहर साढ़े 12 बजे तक और दूसरी पाली दोपहर दो बजे से शाम साढ़े पांच बजे तक थी। हालांकि पहली पाली की परीक्षा खत्म होने के बाद सत्यापन के कारण शिक्षकों को परीक्षा केंद्र से निकलने में पौने एक बज गये। परीक्षा देकर निकले नियोजित शिक्षकों ने बताया कि बीपीएससी की परीक्षा में भी इतने कठिन सवाल नहीं पूछे गये थे। कठिन सवाल आने पर शिक्षक आक्रोशित भी थे। उनका कहना था कि हमें बताया गया था कि परीक्षा आसान होगी, लेकिन ऐसा नहीं था।

होम साइंस विषय की एक शिक्षिका ने बताया कि परीक्षा में विषय से संबंधित सवाल काफी कम आये थे। विषय के अलावा जीके, रिजनिंग, मैथ और अंग्रेजी के सवाल पूछे गये थे। सक्षमता परीक्षा में कुल 150 सवाल पूछे गये थे। सभी सवाल ऑबजेक्टिव थे। एक शिक्षक ने बताया कि अंग्रेजी में सवाल कुछ और थे और उसकी हिन्दी कुछ और लिखी हुई थी। ऐसा तीन से चार सवालों में था। उर्दू के एक शिक्षक ने बताया कि वह उर्दू भाषी हैं, लेकिन सवाल उर्दू में नहीं आये, जिससे उन्हें काफी परेशानी हुई। परीक्षा खत्म होने के बाद भी नियोजित शिक्षक सवाल और जवाब मिलाते रहे। परीक्षा देने आये एक दिव्यांग शिक्षक ने बताया कि कई सवाल आउट ऑफ रिफ्रेंस पूछे गये थे। ऐसे सवालों की हमें आशा नहीं थी।

सक्षमता परीक्षा में इस तरह के पूछे सवाल :

सक्षमता परीक्षा में शिक्षकों से पूछा गया कि 1 से 100 तक का जोड़ कितना होगा। इसके अलावा विभिन्न पुरस्कारों से संबंधित सवाल भी पूछे गये। शिक्षकों ने बताया कि परीक्षा में पूछा गया कि पहला रासो महाकाव्य कौन सा था। तीन अंतरराष्ट्रीय सीमाओं से घिरा हुआ प्रदेश कौन सा है। इसके अलावा रिजनिंग के प्रश्न काफी उलझाऊ थे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें