ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार मुजफ्फरपुरतीन किशोरियों की मथुरा में मौत मामले में बयान देने से कतरा रहा ट्रेन चालक

तीन किशोरियों की मथुरा में मौत मामले में बयान देने से कतरा रहा ट्रेन चालक

मथुरा में शहर की तीन किशोरियों माही, गौरी व माया की जिस मालगाड़ी से कटकर मौत हुई, उसका चालक अब पुलिस को बयान देने से कतरा रहा है। मथुरा गई...

तीन किशोरियों की मथुरा में मौत मामले में बयान देने से कतरा रहा ट्रेन चालक
default image
हिन्दुस्तान टीम,मुजफ्फरपुरTue, 11 Jun 2024 01:45 AM
ऐप पर पढ़ें

मुजफ्फरपुर, प्रमुख संवाददाता
मथुरा में शहर की तीन किशोरियों माही, गौरी व माया की जिस मालगाड़ी से कटकर मौत हुई, उसका चालक अब पुलिस को बयान देने से कतरा रहा है। मथुरा गई मुजफ्फरपुर की पुलिस टीम के सामने दो दिनों से मालगाड़ी का चालक बयान देने नहीं आ रहा है। मथुरा गए एसआई मोहन कुमार ने उससे मोबाइल पर दो दिन पहले बात कर बयान देने के लिए कहा था। तब चालक तैयार हो गया, उसके बाद से वह एसआई का कॉल नहीं उठा रहा है। पुलिस अब चालक को बयान देने के लिए नोटिस जारी करेगी। इसके लिए पुलिस उसे निबंधित डाक से नोटिस भेजेगी।

दुर्घटना के बाद मथुरा हाइवे थाने की पुलिस ने मोबाइल पर ट्रेन चालक शिवकुमार से बात की थी। पुलिस और चालक के बीच हुई बात की कॉल रिकॉर्ड भी वायरल हुई थी। वायरल ऑडियो में चालक ने कहा था कि अचानक ट्रेन के सामने तीनों किशोरियां आपस में हाथ पकड़कर आ गईं। 80 से 90 मीटर की दूरी पर सामने आई किशोरियों को देखकर ट्रेन की ब्रेक लगाई लेकिन गाड़ी रुकने तक तीनों चपेट में आ गई। ट्रेन रुकने के बाद गार्ड ने मुआयना भी किया। तीनों की मौत हो चुकी थी। नगर थानेदार विजय कुमार सिंह ने बताया कि ट्रेन चालक को अब नोटिस देकर बयान के लिए बुलाया गया है। कांड के आईओ मोहन कुमार मथुरा में उससे बयान लेंगे।

इधर, आईओ ने घटनास्थल से रेलवे स्टेशन तक 60 से अधिक सीसीटीवी का फुटेज खंगाला है। 14 मई से लेकर 24 मई तक के फुटेज में पुलिस को तीनों किशोरियां कहीं नहीं दिखीं। वृंदावन में एक आश्रम का भी पुलिस ने इंट्री रजिस्टर आदि खंगाला था।

मोबाइल का लोकेशन नहीं ढूंढ पा रही पुलिस :

13 मई को मुजफ्फरपुर से ट्रेन से गई माही, गौरी व माया का अंतिम लोकेशन पुलिस को कानपुर का मिला था। इसके बाद वह मथुरा किस रूट से गई। ट्रेन से मथुरा पहुंचने तक का मोबाइल लोकेशन पुलिस नहीं ढूंढ पा रही है। उसके सोशल मीडिया अकाउंट को भी पुलिस ट्रेस नहीं कर पा रही है। तकनीकी रूप से मोबाइल और सोशल मीडिया को खंगालना काफी आसान माना जाता है, जिससे कई अहम सुराग पुलिस को मिल सकते हैं। मथुरा में सीसीटीवी खंगाला, लेकिन इससे भी पुलिस साक्ष्य नहीं निकाल पाई है। पांच दिन से केस के आईओ और तीन पुलिस कर्मी मथुरा में छानबीन में जुटे हैं।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।