DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

48 घंटे में चुनाव कर्मियों का डाटाबेस तैयार करने का टास्क

48 घंटे में चुनाव कर्मियों का डाटाबेस तैयार करने का टास्क

डीएम आलोक रंजन घोष ने सोमवार को समीक्षा बैठक में लोकसभा चुनाव की तैयारी पर गहरी नाराजगी जतायी है। मानव संसाधन कोषांग को चुनाव के लिए लगभग 21 हजार चुनाव कर्मियों का डाटाबेस तैयार करना था। लेकिन, अब तक मात्र 13 हजार कर्मियों का ही डाटाबेस तैयार हो पाया है। डीएम ने कोषांग के नोडल पदाधिकारी फैयाज अख्तर को कड़ी फटकार लगाते हुए 48 घंटे में डाटाबेस तैयार करने का निर्देश दिया है।

समीक्षा के क्रम में यह बात सामने आई कि डाटाबेस तैयार न होने के कारण कर्मियों के प्रशिक्षण में बाधा आ रही है। इसपर डीएम ने नाराजगी जताई। साथ ही प्रत्येक कोषांग के नोडल अधिकारी को अपने-अपने काम की डेड लाइन तय करने का निर्देश दिया। डीएम ने अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि उनके कार्यों की मॉनिटरिंग चुनाव आयोग कर रहा है। एक भी चूक होने पर कड़ी कार्रवाई हो सकती है। स्वीप कोषांग के नोडल अधिकारी को डीएम ने कहा कि अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार किया जाये, ताकि मतदान प्रतिशत में वृद्धि हो सके। उन्होंने कहा कि स्वीप कोषांग के माध्यम से ही मतदाताओं को ईवीएम व वीवीपैट के बारे में जानकारी देनी है। डीएम ने इसके अलावा वाहन कोषांग, मीडिया कोषांग, प्रशिक्षण कोषांग, ईवीएम-वीवीपैट कोषांग, सामग्री कोषांग सहित तमाम कोषांग की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि अगली बैठक में सभी नोडल पदाधिकारी प्रत्येक कार्य के लिए समय सीमा तय करके आएंगे और उसपर कार्रवाई भी सुनिश्चित करेंगे। बैठक में उपविकास आयुक्त उज्ज्वल कुमार सहित सभी नोडल पदाधिकारी उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Task to prepare database of election personnel in 48 hours