DA Image
3 अप्रैल, 2020|11:03|IST

अगली स्टोरी

कहीं ऑनलाइन गेम तो कहीं लूडो-कैरम में रमे बच्चे

 लॉकडाउन में बच्चों की दुनिया भी लॉक है। ऐसे में कई स्कूल और सीबीएसई ने बच्चों को घर बैठे पढ़ाई के साथ ही विभिन्न तरह के गेम्स और एक्टिविटी में भी शामिल होने का मौका दिया है।
   इस पहल से बच्चे ऑनलाइन पढ़ाई के साथ गेम्स का भी आनंद ले रहे हैं। हालांकि सुविधाविहीन घरों के बच्चों में थोड़ी मायूसी है। वे आउटडोर गेम से भी वंचित हैं और घरों में ऑनलाइन कोई साधन नहीं।  सीबीएसई स्कूलों ने नए सत्र की किताबें भी बच्चों को ऑनलाइन उपलब्ध करा दी है। इन्द्रप्रस्थ स्कूल के निदेशक सुमन कुमार ने बताया कि बच्चे घर बैठे नए सत्र की पढ़ाई शुरू कर सके, इसके लिए यह पहल की गई है। इसके साथ ही शिक्षकों और अभिभावकों का एक व्हाट्सप ग्रुप बनाया है जिसके माध्यम से बच्चे किसी भी तरह की कठिनाई पर शिक्षकों की मदद ले सकते हैं। इसके अलावा कई तरह की प्रतियोगिता, क्विज ऑनलाइन ही कराई जा रही है।  
  मदर टेरेसा के निदेशक सतीश कुमार ने बताया कि बच्चे घर पर रहकर वैज्ञानिक प्रयोग कर सके, इसके लिए ऑलाइन व्यवस्था की गई है। जीडी मदर स्कूल के संस्थापक नंद कुमार प्रसाद साह, मो.ऑन ने बताया कि अभिभावकों को लिंक भेजा गया है जिसके माध्यम से नए सत्र की किताबें बच्चे पढ़ सकते हैं। किड्जी समेत कई स्कूलों ने यह व्यवस्था की है। अभिभावकों ने कहा कि ऑनलाइन प्रतियोगिता और पढ़ाई की वजह से बच्चों को एक सही मंच मिल गया है।  

साधनविहीन बच्चे घर-आंगन में खेलने को खोजे कई तरीके  
इनकी दुनिया में ऑनलाइन पढ़ाई और खेल का साधन नहीं है मगर इन बच्चों ने साधनविहीन होकर भी अपनी खुशियों के लिए   तरीके खोजे हैं। सिकंदरपुर, बहलखाना, अघोरिया बाजार समेत कई मलीन बस्ती के बच्चों ने घरों में खेलने को लूडो और कैरमबोर्ड को अपना माध्यम बनाया है। अघोरिया बाजार मलीन बस्ती में अभिभावक सुनीता देवी, रीना आदि कहती है कि एक कैरमबोर्ड है। बारी-बारी से बच्चे उसी पर खेलते हैं। सिकंदरपुर स्लम बस्ती के बच्चे कहते हैं कि घर से निकलने पर मार पड़ती है, ऐसे में हम घर आंगन में ही डेंगा-पानी जैसे कोई खेल खेलते हैं।

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Somewhere online games somewhere kids go on a Ludo carrom