SKMCH's pump house stalled, hawkers for water - एसकेएमसीएच के पंप हाउस ठप, पानी के लिए हाहाकार DA Image
13 दिसंबर, 2019|5:44|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एसकेएमसीएच के पंप हाउस ठप, पानी के लिए हाहाकार

एसकेएमसीएच परिसर के सभी पंप हाउस खराब होने से पानी के लिए हाहाकार मच गया है। अस्पताल, कॉलेज हॉस्टल, डॉक्टर व नर्स क्वार्टर में पेयजल संकट गहरा गया है। ऑपरेशन थिएटर व प्रसव वार्ड में भी पानी की किल्लत हो गई है। मरीजों के परिजन पीने के लिए पानी के बोतल खरीदकर ला रहे हैं। वार्ड व अस्पताल परिसर के शौचालयों में भी सप्लाई बंद है। परिसर में लगे चापाकल कई माह से बंद हैं। निजी चापाकल से पानी ढोना पड़ रहा है। इससे अक्सर मरीज के परिजनों का चापाकल के मालिक से विवाद होता है। पानी की समस्या को लेकर दो दिन पहले भी हंगामा हुआ था।

एसकेएमसीएच परिसर के चार पंप हाउस में से पहले से ही तीन खराब थे। एक पंप हाउस के सहारे किसी तरह सभी जगहों तक जलापूर्ति हो रही थी। शुक्रवार को चौथे पंप हाउस में लगा मोटर भी जल गया। इसको लेकर ऑपरेटर ने अस्पताल प्रशासन को त्राहिमाम संदेश भेजा। ऑपरेटर ने बताया कि एसकेएमसीएच परिसर में 25-25 एचपी की दो और 15-15 एचपी की भी दो बोरिंग लगी है। तीन साल पहले 15 व 25 एचपी की एक-एक बोरिंग खराब हो गई। एक साल पहले 25 एचपी की दूसरी बोरिंग भी ठप हो गई। बची 15 एचपी की एक बोरिंग के सहारे ही परिसर के सभी जगहों में पानी सप्लाई की जा रही थी। छह माह पहले इस बोरिंग से बालू आने लगा था। फिल्टर जाम होने से पानी भी कम आ रहा था। किसी तरह मरम्मत कर काम चलाया जा रहा था। अब इस बोरिंग का भी मोटर जल गया।

वहीं, एसकेएमसीएच अधीक्षक डॉ. जीके ठाकुर ने बताया कि 15 एचपी की एक बोरिंग की मरम्मत कराई जा रही है। फिलहाल अस्पताल में सबमर्सेबल से पानी की सप्लाई की जा रही है। पानी की समस्या है। रोगी कल्याण समिति की बैठक में आयुक्त से दो नई बोरिंग लगाने को लेकर बात हुई थी। पीएचडी विभाग को प्राक्कलन बनाकर बोरिंग लगाने को कहा गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:SKMCH's pump house stalled, hawkers for water