ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार मुजफ्फरपुरसस्ते में फर्नीचर बेचने का झांसा देकर छह लोगों से ठगी

सस्ते में फर्नीचर बेचने का झांसा देकर छह लोगों से ठगी

जम्मू स्थानांतरित हुए सीआरपीएफ अधिकारी संतोष कुमार का फर्नीचर सस्ते में बेचने का झांसा देकर साइबर शातिर जिले में अब तक छह लोगों को चूना लगा चुके...

सस्ते में फर्नीचर बेचने का झांसा देकर छह लोगों से ठगी
हिन्दुस्तान टीम,मुजफ्फरपुरThu, 22 Feb 2024 01:45 AM
ऐप पर पढ़ें

मुजफ्फरपुर, वरीय संवाददाता
जम्मू स्थानांतरित हुए सीआरपीएफ अधिकारी संतोष कुमार का फर्नीचर सस्ते में बेचने का झांसा देकर साइबर शातिर जिले में अब तक छह लोगों को चूना लगा चुके हैं। ठगी के शिकार लोगों में महिला पुलिस कर्मी, जदयू प्रखंड अध्यक्ष, वकील और छात्र तक हैं। साइबर शातिर अलग-अलग आईपीएस अधिकारी की तस्वीर और नाम का सोशल मीडिया पर फर्जी आईडी बना रखा है। लोग पुलिस अधिकारी समझकर उस वॉल के पोस्ट पर कमेंट आदि करते हैं, जिसके बाद साइबर शातिर उसे ठगी का शिकार बनाते हैं। लगातार छह मामलों में एफआईआर के बाद भी साइबर शातिरों के सीआरपीएफ संतोष के नाम का मकड़जाल पुलिस तोड़ नहीं पा रही है।

ठगी के लिए अलग-अलग मोबाइल नंबर, बैंक अकाउंट और यूपीआई का इस्तेमाल किया गया है। इसके बाद भी साइबर शातिरों के नेटवर्क को पुलिस तोड़ नहीं पा रही है। पुलिस लाइन में तैनात मीरा कुमारी ने बीते 14 फरवरी को अहियापुर थाने में एफआईआर कराई थी। बताया कि उसे एक अंजान नंबर से कॉल आई। कॉल करने वाले ने खुद को सीआरपीएफ अधिकारी संतोष कुमार बताया और जम्मू में स्थानांतरण की बात बताई। उसने अपना फर्नीचर सस्ते में बेचने की बात कही। इसके बाद मीरा के व्हाट्सएप पर फर्नीचर की तस्वीरे भेजी। इस तरह मीरा कुमारी से 40 हजार की ठगी कर ली गई।

इसी तरह जम्मू स्थानांतरित हुए सीआरपीएफ संतोष कुमार का फर्नीचर बेचने का झांसा देकर कटरा प्रखंड के जदयू नेता बेचन महतो से ठगी की गई। बेचन महतो को पहले आईपीएस जयंतकांत के फर्जी मैंसेंजर आईडी से संतोष का हवाला दिया गया था। इससे पहले अधिवक्ता अनिल कुमार से ठगी का प्रयास किया गया और छात्र सोनू कुमार को भी सीआरपीएफ संतोष के नाम पर झांसा दिया गया। लगातार वारदात के बाद भी संतोष नाम का उपयोग कर रहा साइबर शातिर पकड़ में नहीं आ रहा है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें