DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डॉक्टर व कर्मियों के सहयोग से बेहतर हुईं केजरीवाल अस्पताल की सेवाएं

पिछले 57 वर्षों में केजरीवाल अस्पताल लोगों के सहयोग, डॉक्टरों व कर्मचारियों की मदद से मातृ-शिशु का बेहतर व सफलतापूर्वक इलाज कर रहा है। वर्ष 1962 में 22 बेड से इस अस्पताल की स्थापना देवी प्रसाद केजरीवाल ने की थी। वर्तमान में अस्पताल में बेडों की संख्या 325 हो गई है। 40 स्त्रीरोग व शिशु रोग विशेषज्ञ इस अस्पताल में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। आगे भी अस्पताल के इन्फ्रास्ट्रक्चर का विकास किया जाएगा। ये बातें केजरीवाला अस्पताल के सचिव राजकुमार गोयनका ने मंगलवार को अस्पताल के स्थापना दिवस पर कहीं।

उन्होंने कहा कि अस्पताल में गरीबों का इलाज होता है। यहां अमीर, गरीब, मध्यवर्ग के लोग इलाज के लिए आते हैं। यह डॉक्टरों व पैरामेडिकल स्टाफों के बेहतर कार्य से ही हुआ है। वित्तीय वर्ष 2017-18 में सैकड़ों गरीब मरीजों को अस्पताल ने मुफ्त में दवाएं दी हैं। इन दवाओं की बाजार मूल्य तकरीबन 40 लाख रुपये आंकी गयी। उन्होंने कहा कि अस्पताल के हर वार्ड में ऑक्सीजन की पाइप लाइन बिछा दी गई है। अस्पताल में बिजली की व्यवस्था के लिए 20 किलोवाट का सोलर प्लांट लगाया गया है। चालू वित्तीय वर्ष के दिसम्बर तक 14 हजार 923 महिला, 21 हजार 442 शिशु का इलाज हुआ है। अब तक अस्पताल में 11 हजार 921 प्रसव हुआ हैं। इसमें 60 फीसदी प्रसव नॉर्मल हुए।

मौके पर अस्पताल के संस्थापक देवी प्रसाद का जन्मदिन भी मनाया गया। उनकी तस्वीर पर माल्यार्पण किया गया। अस्पताल के कर्मियों को उपहार भी दिया गया। दो सेवानिवृत कर्मियों को सम्मानित किया गया। मौके पर डॉ. अशोक कुमार, डॉ. नीरज कुमार, डॉ. मुकेश झा, डॉ. आरती द्विवेदी, डॉ. नंदनी चौधरी, डॉ. इतिश्री, डॉ. शशि चौधरी, डॉ. प्रियंका सिंह, डॉ. ऋतंभरा पराशर, डॉ. विजय कुमार, डॉ. समीर कुमार, रंजन कुमार मिश्रा आदि थे। अतिथियों का स्वागत व संचालन श्रीराम बंका ने किया। अंजन केजरीवाल ने अध्यक्षता की। मौके पर शहर के कई गणमान्य डॉक्टर व नागरिक उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Services of Kejriwal Hospital improved with the help of doctors and workers