Seeing the continuous lapse of Muzaffarpur, the DM took over the command - मुजफ्फरपुर को लगातार पिछड़ता देख डीएम ने संभाल ली थी कमान DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुजफ्फरपुर को लगातार पिछड़ता देख डीएम ने संभाल ली थी कमान

स्मार्ट सिटी की दौड़ में पिछड़ने के बाद शहर को स्मार्ट बनाने की कमान खुद डीएम धर्मेंद्र सिंह ने संभाल ली थी। तत्कालीन नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा की कार्रवाई को आगे बढ़ाते हुए डीएम ने इसके पर्यवेक्षण की जवाबदेही डीडीसी अरविंद कुमार वर्मा को सौंपी थी। तीसरे प्रयास में मिली सफलता पर डीएम धर्मेंद्र सिंह ने सबके प्रति आभार व्यक्त करते हुए 2020 तक शहर के स्मार्ट बनने की शुभकामना दी है। जिला प्रशासन द्वारा बताया गया है कि तत्कालीन नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा ने स्मार्ट सिटी बनाने के लिए प्रस्ताव भेजा था, लेकिन कतिपय कमियों के कारण 2016 में जारी पहली और फिर दूसरी सूची में शहर का नाम शामिल नहीं हो पाया। डीएम धर्मेंद्र सिंह ने इसके बाद पूर्व में भेजे गए प्रस्तावों की समीक्षा की और उसमें कई सुधार करवाएं। यहां तक कि प्रस्ताव तैयार करने वाली एजेंसी को ही बदल दिया गया। नगर आयुक्त ने जब मतदान में कमी की समस्या बतायी तो डीएम ने अनेक स्थलों व कार्यालयों में नेट सुविधा सहित कंप्यूटर व लैपटॉप की व्यवस्था करवाकर लोगों से मतदान करवाया। यहां तक की सभी पदाधिकारियों व कर्मचारियों को स्मार्ट सिटी के लिए अनिवार्य रूप से मतदान करने का आदेश जारी किया गया। बैंकों में आने वाले ग्राहकों से मतदान कराया गया। तीसरी बार में 30 शहरों की सूची में मुजफ्फरपुर को स्थान मिला । डीएम ने बताया कि स्मार्ट सिटी में शहर के शामिल होने से शहर की तस्वीर बदल जाएगी। सड़कों का चौड़ीकरण होगा, निर्बाध बिजली आपूर्ति होगी, अत्याधुनिक मार्केट कॉम्पलेक्स का निर्माण होगा, फ्लाईओवर द्वारा वैकल्पिक सड़कों का निर्माण होगा। वहीं शहर का सौंदर्यीकरण किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Seeing the continuous lapse of Muzaffarpur, the DM took over the command