DA Image
28 नवंबर, 2020|7:30|IST

अगली स्टोरी

पूर्वांचल हादसा: हाजीपुर में दस रेल कर्मियों से पांच घंटे पूछताछ, बयान दर्ज

default image

पूर्वांचल एक्सप्रेस हादसे की जांच कर रही टीम ने बुधवार को रेलवे के दस कर्मचारियों को बुधवार को हाजीपुर तलब किया। स्टेशन मास्टर, लोको पायलट, गार्ड, सहायक लोको पायलट, गुमटीमैन, कैरेज एंड वैगन के कर्मी, इंजीनियरिंग विभाग के कर्मचारियों से पूछताछ की गई है। इनसे करीब पांच घंटे तक पूछताछ चली। सभी कर्मचारियों के बयान दर्ज किए गए।

प्रारंभिक जांच में कैरेज एंड वैगन विभाग की लापरवाही सामने आ रही है। जांच में सामने आया है कि मुजफ्फरपुर जंक्शन के बाद ही वाटर टैंक पटरी की ओर झुक गया था। हालांकि, जांच अधिकारी कुछ बोलने से बच रहे हैं। टीम अपनी रिपोर्ट जीएम को सौंपेगी। इसके बाद इसे रेलवे बोर्ड को भेजा जाएगा। रेलवे बोर्ड के निर्देश पर दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

जांच के लिए लखनऊ भेजे गए वाटर टैंक के टुकड़े

पूर्व मध्य रेलवे के जीएम एलसी त्रिवेदी के निर्देश पर गठित टीम बीते मंगलवार की देर रात सिलौत स्टेशन स्थित घटनास्थल पर पहुंची थी। सीएसओ और सीपीटीएम की अगुवाई में बनाई गई टीम ने दोनों दुर्घटनाग्रस्त कोच का निरीक्षण किया। घटनास्थल पर सभी विभागों के कर्मियों से पूछताछ की गई। वाटर टैंक के टूटे हुए टुकड़े को इकट्ठा कर जांच के लिए अधिकारी हाजीपुर ले गए। इन टुकड़ों को बुधवार को जांच के लिए लखनऊ भेजा गया। देर रात तक टीम ने डिरेल कोच के नीचे से टैंक टूटने के हर तकनीकी कारणों को खंगाला।

कुछ दूर तक बेपटरी होकर दौड़ती रही ट्रेन

चर्चा है कि टीम की पूछताछ में जानकारी मिली कि डिरेल होने के बाद दुर्टनाग्रस्त दोनों कोच के दो-दो पहिए पटरी के नीचे उतर गए। इस दौरान ट्रेन कुछ दूरी तक दौड़ती रही। इससे दोनों कोच तेज झटका खा रहे थे।

पूर्वांचल एक्सप्रेस हादसे की पूर्व मध्य रेल के मुख्यालय हाजीपुर स्तर पर जांच की जा रही है। संबंधित सभी रेल कर्मचारियों को बुधवार को पूछताछ के लिए बुलाया गया था। एक-एक बिंदु पर जांच की जांच रही है।

-अनिल कुमार गुप्ता, डीआरएम, सोनपुर मंडल

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Purvanchal accident Five railway personnel questioned in Hajipur for five hours statement recorded