DA Image
23 सितम्बर, 2020|2:24|IST

अगली स्टोरी

निर्वाण महोत्सव पर लाडू चढ़ाकर हुई पूजा व आरती

निर्वाण महोत्सव पर लाडू चढ़ाकर हुई पूजा व आरती

मोतीझील स्थित श्रीदिगंबर जैन मंदिर में पर्युषण पर्व के दसवें दिन मंगलवार को वासुपूज्य स्वामी का निर्वाण महोत्सव मनाया गया। इस अवसर पर सुबह में अभिषेक पूजा व आरती विशेष रूप से की गयी साथ ही निर्वाण लाडू भी चढ़ाया। सभी ने कोरोना से मुक्ति व सुख-शांति की प्रार्थना की। तीन सितम्बर गुरुवार के दिन क्षमावाणी का पर्व मनाया जाएगा। कमेटी के महामंत्री रवीन्द्र कुमार जैन ने कहा कि दसवां दिन उत्तम ब्रहाचर्य का दिन है। ब्रह्रा अर्थात अपनी आत्मा में चर्य अर्थात चरण-रमण करना ब्रह्राचर्य है। जहां मानसिक शक्तियां पूरी तरह आत्म शुद्धि के पवित्र पुरुषार्थ की ओर लग जाती है। वहीं उत्तम ब्रह्राचर्य का परिपालन है। व्रतो में ब्रह्राचर्य सबसे बड़ा व्रत है। जिसका अर्थ है पंच इन्द्रियों तथा मन को पूरी तरह अपने नियंत्रण में रखते हुए आत्मा में विकारी भावों का निरोध होकर आत्म साधना में रत हो जाना। ब्रह्राचर्य बढिया खाद है जहां सदगुणों की खेती लहलहाने लगती है। मौके पर राकेशचन्द्र जैन, ओमप्रकाश जैन, अजय जैन, रानी जैन, पदमा जैन व शफी जैन समेत अन्य श्रद्धालु भी थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Pooja and aarti performed on Nirvana festival