DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चिंता में डूबे हैं लोग, बच्चों का भी मूड है बिगड़ रहा

‘पड़ुका के पडूका (तीन साल पहले ) जइसन ऐ साल के हाल हई। लेकिन पनिया अभी दू मानुस (12 से 15 फीट)बांध से निचा हई। एक-दू दिन में अब हमनियों के घर पानी घूस जतई। बाढ़ के पानी के तेजी आगे सरकते हुए पानी को देख चिंता में डूबी हुई मीना देवी अपने परेशानियों का बयान करते हुए रुकती नहीं है। वह बताती है कि बिजली भी लगातार गुल रह रही है। पानी भी कई दिनों से नाममात्र का आ रहा। देखिए, गर्मी से किस तरह मेरे बच्चे बिलबिला रहे हैं।

अमित बताते हैं कि आश्रम घाट में अचानक दिन के दो बजे दिन के बाद से तेजी पानी बढ़ने लगा है। बांध से अब 10 मीटर दूर रह गया है। इसी मोहल्ले में एक स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत कर्मचारी बताती हैं कि हमलोग तो मकान बनाकर इधर बुरा फंस गये। दो साल कोई परेशानी नहीं हुई। इस साल फिर अभी से ही हालत खराब है। खुशी, मोना, पिंकी सब आज से ही डरी हुई है। अब घर के आगे घुटना भर पानी है। दिन में एक बजे कोचिंग गई थी, घर के आगे से पानी दूर था। शाम में पांच बजे पहुंची तो न सिर्फ घर के आगे तक पानी पहुंच गया है, बल्कि यह घुटना से ऊपर है।

जीतेंद्र पटेल कहते हैं कि कल से अब बच्चों का स्कूल जाना बंद हो जाएगा। मोहल्ले में आज से ही नाव चलना शुरू हो गया है। कई फोम का नाव बनाकर आना-जाना रहे है। गांधी नगर की हालत आश्रम घाट से भी बुरी है। मोरबा गली, मोतीचुड़ दाना कम्पनी रोड में जांघ तक पानी पहुंच गया है। लोग निचला तल्ला खाली कर ऊपर मकान में नीचे का सामान शिफ्ट कर रहे हैं। हनुमंत नगर के चंद्रदीप सिंह कहते हैं कि नाला से होकर मोहल्ले में पानी घुस रहा है। बीच सड़क पर ही जांघ भर पानी जमा हो गया है। इसका क्या उपाय हो? नहीं समझ आ रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:People are worried Mood of Children is also Disturbed