DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब जिले के 152 स्कूल अन्य में हो जाएंगे मर्ज

अब जिले के 152 स्कूल अन्य में हो जाएंगे मर्ज

जिले के 152 स्कूल को अन्य स्कूल में मर्ज किया जाएगा। एक ही बिल्डिंग में दो शिफ्ट में चल रहे स्कूल के लिए राज्य परियोजना निदेशक ने यह आदेश जारी किया है। निदेशक के इस आदेश के तहत सभी भवनहीन और भूमिहीन स्कूल चाहे वह प्राइमरी स्कूल हो या मिडिल, सभी को मर्ज करने की कार्रवाई होगी।

इससे पहले जनवरी 2017 में सरकार ने भवनहीन और भूमिहीन स्कूल को मर्ज करने का आदेश दिया था। ऐसे स्कूलों को चुनना था जो किसी अन्य स्कूल में शिफ्ट में चल रहे हैं। सरकार ने जिले के 39 स्कूल की सूची मर्ज करने के लिए जारी की। इस सूची में प्राइमरी और मिडिल स्कूल दोनों शामिल थे।

डेढ़ साल में महज 23 स्कूल को किया गया मर्ज : डेढ़ साल में बिहार शिक्षा परियोजना की ओर से महज 23 स्कूल को ही मर्ज करने की कार्रवाई गई। निदेशक के बाकी स्कूल के मर्ज नहीं करने पर तलब की तो अधिकारियों ने रिपोर्ट दी कि 39 में 13 मिडिल स्कूल शामिल हैं और तीन उर्दू स्कूल हैं। विभाग ने अब डीपीओ सर्व शिक्षा अभियान को निदेश दिया है कि जो भी स्कूल भवनहीन हैं और जो शिफ्ट में चल रहे हैं, उन सभी को मर्ज किया जाए। चाहे वह मिडिल स्कूल ही क्यों ना हो। अगस्त तक इसे पूरा करके रिपोर्ट मांगी गई गई है।

175 स्कूल भवनहीन और भूमिहीन हैं जिले में

सर्व शिक्षा अभियान की रिपोर्ट के अनुसार जिले में वर्तमान में 175 स्कूल भवनहीन और भूमिहीन हैं। इसमें कई स्कूल ऐसे हैं जो मंदिर के प्रांगण में चल रहे हैं वहीं कई अन्य स्कूल के भवन में मॉर्निंग शिफ्ट में चल रहे हैं। डीपीओ सर्व शिक्षा अभियान विनय कुमार ने बताया कि इन सभी स्कूल से संबंधित रिपोर्ट बीईओ से मांगी गई है। निदेशक के आदेश के आलोक में सोमवार से इसकी प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Now 152 schools in the district will merge into another