Thursday, January 27, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार मुजफ्फरपुरमाइक्रोबायोलॉजी ने सौंपी रिपोर्ट, आज पता चलेगा क्यों गई आंखों की रोशनी

माइक्रोबायोलॉजी ने सौंपी रिपोर्ट, आज पता चलेगा क्यों गई आंखों की रोशनी

हिन्दुस्तान टीम,मुजफ्फरपुरNewswrap
Mon, 06 Dec 2021 03:30 AM
माइक्रोबायोलॉजी ने सौंपी रिपोर्ट, आज पता चलेगा क्यों गई आंखों की रोशनी

मुजफ्फरपुर। वरीय संवाददाता

मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद आंख निकालने के मामले की माइक्रो बॉयलॉजी जांच की रिपोर्ट रविवार को एसीएमओ को मिला गया है। रिपोर्ट सील बंद लिफाफे में है। उसे सोमवार को जिला स्वास्थ्य समिति के अध्यक्ष सह डीएम प्रणव कुमार, सचिव सह सिविल सर्जन डॉ. विनय कुमार शर्मा और जांच टीम के समक्ष रिपोर्ट के सील बंद लिफाफे को खोला जाएगा। इस रिपोर्ट पर ही आगे की कानूनी कार्रवाई टिकी हुई है। साथ ही ऑपरेशन के असफल होने और आंखों में रौशनी नहीं आने की मूल वजह का भी खुलासा हो सकेगा।

इससे पहले रविवार को एसीएमओ डॉ. सुभाष प्रसाद सिंह राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक से पटना में मुलाकात की। साथ ही इस पूरे प्रकरण को लेकर चर्चा भी किया। कानूनी पहलू से लेकर इलाज तक के संबंध में कार्यपालय निदेशक को जानकारी दी। आगे के कार्रवाई और निर्देश के संबंध में भी कार्यपालक निदेशक से जानकारी ली। एसीएमओ डॉ. सुभाष प्रसाद सिंह ने बताया कि अबतक 19 मामले सामने आये है। जिनका पटना में इलाज कराया जा रहा है। एसकेएमसीएच में भर्ती एक दर्जन मरीजों का इलाज जारी है। उनमें सुधार के लक्ष्ण दिख रहें है। संभवत: दो से तीन दिनों में एसकेएमसीएच से उनलोगों को डिस्चार्ज भी कर दिये जाएंगे। मालूम हो कि, इस कांड के बाद डॉक्टरों की एक टीम ने आई हॉस्पिटल के ओटी, लैब, मेडिसिन आदि का नमूना लेकर जांच के लिए माइक्रो बॉयोलॉजी सेंटर भेजा था।

अबतक 40 मरीजों से किया गया संपर्क :

जानकारी हो कि, 22 और 23 नवंबर के बीच मुजफ्फरपुर आई हॉस्पिटल में 147 मरीजों का ऑपरेशन हुआ था। इसमें 22 नवंबर को 65 और 23 नवंबर को 82 हुआ था। सदर अस्पताल ने अबतक 40 ऐसे मरीजों से संपर्क किया है। जिन्होंने दो दिनों में आई हॉस्पिटल में ऑपरेशन कराया था। इनमें मुजफ्फरपुर के अलावा, सीमातढ़ी, शिवहर, मोतिहारी, बेतिया और बगहा के मरीज शामिल है। और से संपर्क साधाने का प्रयास जारी है। कई मरीजों का नंबर भी गलत अंकित है। इससे भी उन्हें चिह्नित करने में परेशानी हो रही है। रविवार को किसी भी मरीज को पटना नहीं भेजा गया। बताय गया कि एक भी मरीज सदर, आई हॉस्पिटल व एसकेएमसीएच पहुंचे थे। सिविल सर्जन डॉ. विनय कुमार शर्मा ने कहा कि 22 नवबंर को 65 मरीजों का ऑपरेशन हुआ था। इसमें शिवहर, समस्तीपुर, वैशाली, पूर्वी, पश्चमी चंपारण और मुजफ्फरपुर के लोग शामिल थे। सभी जिलों के सिविल सर्जन को भी इसकी सूचना दे दी गई है। कहा गया है कि वह अपने स्तर से मरीजों की बात करें। अगर उन्हें जानकारी मिलती है तो सीधे आईजीएमएस पटना इलाज भेज ‌दें।

epaper

संबंधित खबरें