DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आधी रात में राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री को भेजी गई लीची

31 मई की आधी रात में जिला प्रशासन ने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शाही लीची भेज दी। आनन-फानन में अधिकारी आरके केडिया की यूनिट पर पहुंचे। यहां फ्रीजर वैन में लीची लदवाकर भेज दी गई। हालांकि, डीएम धर्मेंद्र सिंह ने एक जून को लीची भेजे जाने की बात कही थी। इस बार राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री को लीची भेजने में देरी हुई है। कारण कि समय पर शाही लीची तैयार नहीं हो सकी। इस बार लीची की फसल भी खराब हो गई है। अच्छी गुणवत्ता वाली लीची ढूंढ़ने में जिला प्रशासन के पसीने छूट गये। अंत में हर साल की तरह इस बार आरके केडिया को लीची भेजने की जिम्मेवारी सौंपी गई। पांच टन में छांटी गई दो टन लीची: हालांकि इस बार कई किसानों ने अच्छी गुणवत्ता वाली लीची देने का दावा किया था। लेकिन जांच में किसी किसान की लीची अच्छी नहीं निकली। डीएम की ओर से बनाई गई कमेटी ने दो-दो बार बागानों की जांच की। एक किसानश्री तो अंत तक दावा पर कायम रहे। लेकिन उनकी लीची भी अंतत: सही नहीं निकली। तब जाकर आरके केडिया ने पांच टन में छांटकर दो टन लीची तैयार की। इसके बाद उसे प्रोसेस किया गया। तब जाकर लीची दिल्ली भेजी गई। लीची भेजने के समय एनडीसी राजीव रंजन समेत कई मजिस्ट्रेट उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Litchi sent to the president at midnight