DA Image
Saturday, December 4, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार मुजफ्फरपुरपार्षद पिंटू के विवाह भवन में शराब पार्टी पर छापा

पार्षद पिंटू के विवाह भवन में शराब पार्टी पर छापा

हिन्दुस्तान टीम,मुजफ्फरपुरNewswrap
Tue, 19 Oct 2021 03:22 AM
पार्षद पिंटू के विवाह भवन में शराब पार्टी पर छापा

मुजफ्फरपुर। वरीय संवाददाता

ब्रह्मपुरा थाना के लक्ष्मी चौक स्थित पारस महल विवाह भवन से शराब बरामद होने पर वार्ड तीन के पार्षद राकेश कुमार पिंटू फंस गए हैं। विवाह भवन पार्षद का है और इसे किराये पर दे रखा है। वहां शराब पार्टी की सूचना पर पुलिस ने छापेमारी की थी। इस दौरान एक कमरे से ढाई सौ एमएल शराब, सोडा की खाली बोतल व ग्लास मिला। सोमवार को पुलिस ने कमरे को सील किया। इस संबंध में थानेदार अनिल कुमार गुप्ता ने अपने बयान पर पार्षद राकेश कुमार पिंटू व विवाह भवन के केयरटेक कांटी थाना के दामोदरपुर निवासी मो. मकसूद को आरोपित किया है।

इसकी पुष्टि करते हुए नगर डीएसपी रामनरेश पासवान ने बताया कि फरार पार्षद व केयरटेकर की गिरफ्तारी के लिए थानेदार को निर्देश दिया गया है। उत्पाद अधिनियम की विभिन्न धाराओं में एफआईआर दर्ज की गई है। इसके मुताबिक, 16 अक्टूबर की देर रात थानेदार को सूचना मिली थी कि विवाह भवन में शराब पार्टी चल रही है। इस आधार पर पुलिस टीम ने छापेमारी की, लेकिन भनक लगने पर शराब पार्टी में शामिल सभी लोग पहले ही भाग निकले।

पुलिस के पहुंचने से पहले ही किसी ने लीक कर दी सूचना

सूत्रों के मुताबिक, जब टीम छापेमारी करने पहुंची तो गेट पर गार्ड व कुछ लोग थे। उनलोगों ने बताया कि कुछ देर पहले तक केयरटेकर व अन्य मौजूद थे। फिर तेजी से कहीं निकल गए। सूत्रों की मानें तो पुलिस के पहुंचने से पहले किसी ने कॉलकर जानकारी दी थी कि ब्रह्मपुरा पुलिस छापेमारी के लिए थाने से निकल गई है। वहीं, ब्रह्मपुरा पुलिस का कहना है कि यदि पुलिस स्तर से सूचना लीक गई की होगी तो इसकी जांच की जाएगी।

शराब पार्टी में शामिल अन्य लोगों को किया जा रहा चिह्नित

फिलहाल, पुलिस यह पता नहीं कर सकी है कि शराब पार्टी में कौन-कौन लोग शामिल थे। पुलिस पदाधिकारी का कहना है कि मोबाइल टावर डंप कर उनलोगों को चिह्नित किया जा रहा है। उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। वहीं, विवाह भवन में मौजूद मैनेजर दिलीप कुमार ने कहा कि मेयर का चुनाव होने वाला है। इसलिए वार्ड पार्षद को फंसाने के लिए विरोधी खेमे ने साजिश रची है।

जनप्रतिनिधियों ने की पैरवी, सोशल मीडिया पर वायरल

विवाह भवन से शराब बरामदगी होने के बाद कई जनप्रतिनिधियों ने पुलिस को कॉलकर एफआईआर से पार्षद का नाम हटाने का दबाव बनाया। कई तरह के नियमों का हवाला भी दिया, लेकिन हाई प्रोफाइल मामला होने से पुलिस ने पैरवीकारों की नहीं सुनी। सोमवार को सुबह से ही यह प्रकरण सोशल मीडिया पर भी तेजी से वायरल हो रहा था।

पिंटू का आरोप, मेरे खिलाफ रची गई साजिश

सोमवार की देर शाम पार्षद राकेश कुमार पिंटू ने सादे कागज पर प्रेस विज्ञप्ती जारी की है। इसमें आरोप लगाते हुए कहा है कि वर्तमान में मैं मेयर पद का दावेदार हैं। पूर्व में मैं मेयर पद का प्रत्याशी रह चुका हूं। मेरी बढ़ती लोकप्रियकता व समर्थन से घबराकर कुछ पार्षद व तथाकथित महापौर सुरेश कुमार ने अपने धन-बल का दुरुपयोग करते हुए फंसाने की साजिश रची है। विवाह भवन किराये पर दे रखा है। विरोधियों ने प्रतिबंधित सामग्री रखकर मुझे झूठे मुकदमे में फंसाने का काम किया है।

सुरेश कुमार ने कहा, आरोपितों पर हो कठोर कार्रवाई

इस मामले पर मेयर सुरेश कुमार ने कहा है कि उनपर वार्ड तीन के पार्षद द्वारा लगाए गए आरोप निराधार हैं। झूठा आरोप मढ़ रहे हैं। कहा कि पार्षद राकेश पिंटू उनके खिलाफ सबसे आगे थे, लेकिन सत्य की आखिरकार जीत हुई। ऊपरवाला सब देख रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि वहां पर सिर्फ शराब की पार्टी नहीं बल्कि अवैध रूप से खरीद-फरोख्त भी होती है। कुछ लोग छापेमारी कराने का आरोप उनपर लगा रहे हैं, लेकिन सब जानते हैं कि उनकी छवि साफ-सुथरे जनप्रतिनिधि की है। राजनीति अपनी जगह है और काम अपनी जगह। मुख्यमंत्री के शराबबंदी कानून को आरोपित चकनाचूर करने में लगे हैं। इनके खिलाफ पुलिस सख्त कार्रवाई करे। वह एसएसपी से इसकी मांग करते हैं।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें