अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जानिये शहर के अरिंदम ने कैसे किया जिले का नाम रौशन

जानिये शहर के अरिंदम ने कैसे किया जिले का नाम रौशन

शहर के अरिंदम राज का चयन अमेरिका के न्यू हेवेन सिटी स्थित ऐले विवि में रिसर्च स्कॉलर के रूप में हुआ है। अरिंदम यहां पर कार्बन नैनो पार्टिकल पर रिसर्च करेंगे। इसके लिए इन्हें 76 हजार छह सौ 50 डॉलर की स्टाइपेंड भी दी जाएगी। अरिंदम की इस सफलता से जहां एक ओर परिवार वाले खुश हैं। वहीं उसने शहर का भी नाम रौशन किया है।

अरिंदम की स्कूली शिक्षा शहर के ही निजी स्कूलों से हुई है। 2013 में +2 के बाद अरिंदम का चयन आईआईटी कानपुर में हुआ। जहां से उसने मेटेरियल साइंस में बीटेक व एमटेक किया। अमेरिका के कार्बन मैगजीन में अरिंदम का रिसर्च प्रकाशित होने के बाद ऐले विवि से ऑफर आया। फिर इंटरव्यू व अन्य कागजी प्रक्रिया पूरी होने के बाद अरिंदम का चयन हो गया।

अरिंदम खबरा निवासी विजय ओझा व गीता ओझा के बड़े लड़के हैं। श्री ओझा मूलरूप से छपरा के बनियापुर थाना के कोल्हुआ के रहने वाले हैं। वे वर्तमान में जिला एवं सत्र न्यायाधीश के पेशकार के रूप में कार्यरत हैं। उनका छोटा लड़का अंकित राज कोलकाता से बीटेक कर रहा है। श्री ओझा ने बताया कि 15 अगस्त को बेटा अमेरिका के लिए चला गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Know how Arindam spread the Name of City Worldwide