DA Image
12 जुलाई, 2020|4:25|IST

अगली स्टोरी

जीतेगा गांव-हारेगा कोरोना : चौतरफा चुनौतियों से हार नहीं मानेंगे बरियारपुर-अंजनाकोट के किसान

अंजनाकोट निवासी पूर्व पैक्स अध्यक्ष मणिभूषण शर्मा सुबह उठकर गेहूं कटवाने चले तो आसमान से बूंदाबांदी शुरू हो गई। बारिश के कारण मोतीपुर प्रखंड की बरियारपुर पूर्वी पंचायत में चार दिनों से गेहूं की कटनी पर ब्रेक लगा है। मणिभूषण शर्मा बताते हैं कि पंचायत में गेहूं की 40 प्रतिशत फसल खेतों में है। कोई पानी में बालियां छान रहा है तो किसी को पानी सूखने का इंतजार है। फसल अच्छी थी, लेकिन अनाज घर लाने से पहले बारिश ने किसानों को अंतिम समय में लूट लिया। पड़ोसी ने मणिभूषण शर्मा को बताया कि उनके मक्के के खेतों में घोड़परास (नीलगाय) ने कहर बरपाया है। लॉकडाउन में लोग घर से नहीं निकल रहे हैं और नीलगाय के झुंड आजाद होकर मक्के के बाल व हरी सब्जियां खा रहे हैं।
मणिभूषण शर्मा मक्के का खेत देखने निकल रहे थे, उसी समय कोटा (राजस्थान) से बेटी वर्षा का फोन आया-पापा आप कब आ रहे हैं। यहां से दूसरे राज्यों की लड़कियां चली गईं। हॉस्टल में अब सिर्फ बिहार की लड़कियां रह गयी हैं। पापा जल्द आइए। मुझे डर लगता है। बेटी को संतोषप्रद जवाब नहीं दे पाए- मैं कोशिश में हूं। प्रशासन किसी को अनुमति नहीं दे रहा है। जब सरकार अनुमति देगी तो कोटा में फंसे सभी बिहारी छात्र-छात्राओं की वापसी होगी। तुम ठीक से रहना।
लॉकडाउन का पालन करते हुए खेतों में पसीना बहा रहे किसानों को चौतरफा चुनौती मिल रही है। बथना के किसान राज किशोर शर्मा कहते हैं-हम हार मानने वाले किसान नहीं हैं। घर में 12 सदस्य हैं और पूरा परिवार खेती पर ही आश्रित है। मेरे खेतों में हरी सब्जियां खूब उपजी हैं। सब्जियों की कीमत भी अच्छी है, लेकिन एक घंटे में बेचना मुश्किल है। सुबह-शाम मंडी में सिर्फ एक-एक घंटे की मोहलत दी जा रही है। सुबह में मंडी में भिंडी बेच आए, दोपहर में मवेशियों का चारा लाया और शाम में परवल के खेत में दवा का छिड़काव करेंगे। बूढ़ी गंडक से सटे माधोपुर मन में बड़े पैमाने पर मछली पालन हुआ है। मल्लाहों का रोजगार चल रहा है, लेकिन रोज मजदूरी से परिवार चलाने वाले परेशान हैं। माधोपुर के किसान विद्यानंद यादव के 26 सदस्यीय परिवार में आराम हराम है। लोग सिस्टम में हैं। पानी से निकालकर गेहूं के पौधे सूखा रहे हैं। खाद-बीज की दुकान है, लेकिन बेचने के लिए माल नहीं है। माधोपुर के किसान एवं शिक्षक नाथ सहनी की मेहनत देखकर लोग ताज्जुब करते हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Jitega Village-Harega Corona: Bariarpur-Anjankot farmers will not give up on all-round challenges