DA Image
27 नवंबर, 2020|11:48|IST

अगली स्टोरी

इमलीचट्टी के लाइसेंस पर मालीघाट में चला रहा था अवैध ब्लड बैंक

default image

मिठनपुरा पुलिस ने अवैध ब्लड बैंक के संचालन के आरोप में गिरफ्तार ब्रह्मपुरा थाने के जूरनछपरा निवासी सूरज कुमार को मंगलवार को कोर्ट में पेश किया। सुनवाई के बाद उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। इसके अलावा अन्य पांच युवकों को पुलिस ने पीआर बॉन्ड पर छोड़ दिया है। इन्हें सूरज ही ब्लड डोनेट करने के लिए बुलाकर मालीघाट के चूनाभट्ठी ले गया था। फिलहाल मास्टरमाइंड नवीन कुमार सिन्हा फरार है। पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी में जुटी है।

मिठनपुरा थानेदार भगीरथ प्रसाद ने बताया कि पूरे मामले की सिविल सर्जन व ड्रग इंस्पेक्टर से जांच कराई गई। इसमें मालूम चला कि नवीन कुमार सिन्हा ने ब्रह्मपुरा थाने के इमलीचट्टी स्थित ब्लड बैंक के लिए लाइसेंस लिया था। मालीघाट में इस लाइसेंस पर दूसरा अवैध ब्लड बैंक संचालित कर रहा था। युवकों को बहला-फुलसलाकर या फिर ब्लड डोनेशन कैंप के नाम पर लाकर ब्लड लेता था। इसे खुले बाजार में बिचौलियों के माध्यम से बेचता था।

बिचौलियों के माध्यम से चल रहा था धंधा :

मास्टरमाइंड नवीन बिचौलियों के माध्यम से जरूरतमंदों को ब्लड उपलब्ध कराता था। इसके लिए मनचाही कीमत वसूलता था। इसमें से बिचौलियों को भी कमीशन देता था। बताया जाता है कि पांच हजार रुपये से लेकर 10 हजार रुपये प्रति यूनिट ब्लड की सप्लाई अस्पतालों में करता था। शहर के अपेक्षा ग्रामीण क्षेत्र के अस्पताल में इसकी सप्लाई अधिक थी। पुलिस ने वैसे अस्पतालों को भी चिह्नित कर कार्रवाई करने की कवायद शुरू कर दी है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Illegal blood bank was running illegal blood bank in Malighat on license