DA Image
25 सितम्बर, 2020|9:46|IST

अगली स्टोरी

बस अड्डों में सुरक्षा मानकों की अनदेखी, बगैर मास्क वालों ने भी किया सफर

बस अड्डों में सुरक्षा मानकों की अनदेखी, बगैर मास्क वालों ने भी किया सफर

परिवहन सचिव के निर्देश पर मंगलवार से सूबे की सड़कों पर फिर से बसें दौड़ने लगीं। इसको लेकर सुबह से ही बैरिया, जीरोमाइल, भगवानपुर, यादवनगर व रामदयालुनगर बस स्टैंड यात्रियों की भीड़ से गुलजार रहे। देर शाम तक बसों में यात्रियों को बैठाने को लेकर शोर-शराबा होता रहा। इस दौरान बस स्टैंडों में सोशल डिस्टेंसिंग की अनदेखी की गई। बगैर मास्क वाले यात्रियों को भी बस ऑपरेटरों ने सफर करने दिया। इसपर जिला परिवहन विभाग ने विभिन्न जगह जांच कर करीब 96 हजार रुपये जुर्माना भी वसूला। बस चालक व खलासी को कड़ी फटकार भी लगाई। आगे से बगैर मास्क वाले यात्री को बैठाने पर कानूनी कार्रवाई करने की चेतावनी दी।

टैक्स माफ करने के लिए लिखा पत्र :

बिहार मोटर फेडरेशन के प्रदेश अध्यक्ष उदय प्रसाद सिंह ने परिवहन विभाग के सचिव को पत्र लिखकर बस ऑपरेटरों के टैक्स माफ करने की अपील की है। बताया कि करीब छह माह से बस परिचालन ठप था। इससे आमदनी नहीं हुई। इससे टैक्स की राशि भरने में ऑपरेटरों को परेशानी हो रही है।

बसों पर चस्पाया जगरूकता पोस्टर :

जिला परिवहन पदाधिकारी रजनीश लाल ने बताया कि मंगलवार को कई प्रमुख मार्गों पर बसों की जांच की गई। इस दौरान लापरवही बरतने वालों से करीब 96 हजार रुपये जुर्माना वसूला गया। उन्होंने बताया कि बसों पर नियमों से संबंधित और जागरुकता को लेकर पोस्टर चिपकाया गया है। बुधवार को भी अभियान जारी रहेगा। बसों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी सख्ती से कराया जा रहा है।

दूसरे प्रदेश जाने के लिए मारामारी :

बैरिया बस स्टैंड से दिल्ली और अन्य दूसरे प्रदेश जाने वाले यात्रियों की मारामारी जारी रही। दिल्ली तक के लिए बस ऑपरेटर ने 12 से 18 सौ रुपये भाड़ा वसूला। करीब आधा दर्जन से अधिक टिकट काउंटर बैरिया बस स्टैंड में खुले थे। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए लंबे अर्से से बस सेवा बंद थी। इसको लेकर बस अड्डों पर सन्नाटा रहता था। मंगलवार से सेवा शुरू होने से बस संचालकों को राहत मिली।

तय सीटों पर ही बैठाए गए यात्री :

पटना, दरभंगा, सीतामढ़ी, चंपारण के अलावा दिल्ली तक के लिए बस परिचालन हुआ। बस ऑपरेटर शर्त के मुताबिक, निर्धारित सीटों पर ही पैसेंजर को बैठाकर गंतव्य तक ले गए। हालांकि, बस पर चढ़ने के दौरान सैनेटाइजर का इस्तेमाल नहीं किया जा रहा था। सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन नहीं हो रहा था।

‘नौकरी बचाने के लिए जाना तो पड़ेगा

दिल्ली जाने के लिए बैरिया बस स्टैंड पहुंचे सकरा के रमेश सिंह ने बताया कि वह दिल्ली में नौकरी करते हैं। कंपनी ने वर्क फ्रॉम होम खत्म कर दिया है। दिल्ली बुलाया है। परिवार की देखभाल के लिए दिल्ली जाना पड़ रहा है। डर है, लेकिन नौकरी भी करनी है। वहीं, चालक महेश चंद्रा ने बताया कि सावधानी के साथ पैसेंजर ले जा रहे हैं। बस में सैनेटाइजर आदि की व्यवस्था है। हर फेरे के बाद बस की धुलाई कराई जा रही है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ignoring Safety Standards in Bus Bases Even Masked People Travel