DA Image
1 सितम्बर, 2020|8:50|IST

अगली स्टोरी

विदेशों में भी हिन्दी को उचित सम्मान दिलाने को हिन्दी साहित्य भारती का अभियान

विदेशों में भी हिन्दी को उचित सम्मान दिलाने को हिन्दी साहित्य भारती का अभियान

विदेशों में भी हिन्दी भाषा को उचित सम्मान दिलाने को हिन्दी साहित्य भारती की ओर से अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत ऑस्ट्रेलिया में इस संस्था का विस्तार किया गया। यह जानकारी मंगलवार को अंतरराष्ट्रीय संस्था हिंदी साहित्य भारती बिहार प्रदेश इकाई की ऑनलाइन बैठक में सामने आयी। प्रांतीय अध्यक्ष डॉ. दिनेश प्रसाद साह की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. रवींद्र शुक्ल ने कहा कि सबकी सक्रियता से ही एक नया इतिहास रचा जाएगा। यह एक ऐतिहासिक संस्था है जिसका प्रचार-प्रसार राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किया जा रहा है। 22 प्रदेशों में संगठन अपना काम बखूबी कर रहा है। दक्षिण भारत में भी हिंदी साहित्य भारती की संस्था अपना दायित्व निभा रही है। भारत के अलावा 20 अन्य देशों में भी संगठन अपना काम बखूबी कर रहा है। मंगलवार को ही ऑस्ट्रेलिया में हिंदी साहित्य भारती संस्था का विस्तार हुआ है, यह हमारे लिए गर्व की बात है। उत्तराखंड प्रदेश संयोजक डॉ. अनिल शर्मा ने कहा कि संस्था का प्रथम उद्देश्य हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा का दर्जा दिलाना है। अभी तक हिंदी संपर्क भाषा के रूप में ही जानी जाती रही है। प्राथमिक शिक्षा का माध्यम मातृभाषा में हो, यह भी संस्था का मूल उद्देश्य है। डॉ. रमा सिंह ने कहा कि हम सभी हिंदी साहित्य भारती के ध्वजवाहक हैं। मौके पर अमिताभ सिन्हा, डॉ. सुरेश वर्मा, प्रीतम कुमार निषाद, त्रिलोक मिश्र, शिवेंद्र पाण्डेय, रितु प्रज्ञा, रंगकर्मी मुकेश सोना, नंदकिशोर साह थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hindi Sahitya Bharati 39 s campaign to get Hindi due respect abroad