DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विज्ञान की पढ़ाई में लड़कियां लड़कों से आगे

विज्ञान की पढ़ाई में लड़कियां लड़कों से आगे

विज्ञान की पढ़ाई में लड़कों से अधिक दिलचस्पी लडकियां ले रही हैं। बीआरए बिहार विश्वविद्यालय में विज्ञान में पीजी करने वाले विद्यार्थियों में छात्रों की तुलना में छात्राओं की संख्या काफी ज्यादा है। फिजिक्स व केमिस्ट्री जैसे विषयों की पढ़ाई में छात्राएं काफी रुचि ले रही हैं।

इतना ही नहीं भाषा वाले विषयों में भी छात्राओं की संख्या अधिक है। एक दिन पूर्व बीआरएबीयू के सीनेट की बैठक में पेश वार्षिक रिपोर्ट से यह बात सामने आयी है। पीजी स्तर की पढ़ाई में छात्राओं ने बढ़ चढ़कर नामांकन कराया है। सीनेट में 2017-18 की वार्षिक रिपोर्ट में पिछले साल सत्र 2015-17 में नामांकित छात्र-छात्राओं की रिपोर्ट भी है। माना जा रहा है कि सरकार की ओर से नामांकन के दौरान किसी भी तरह का शुल्क नहीं लेने से भी छात्राओं को बढ़ावा मिला है। फिजिक्स में 18 छात्रों ने नामांकन कराया जबकि छात्राओं की संख्या 22 रही।

जूलॉजी में 14 छात्र तो 30 छात्राओं ने नामांकन लिया। बॉटनी में महज तीन छात्र हैं जबकि 20 छात्राओं ने नामांकन लिया है। केमिस्ट्री में 30 से अधिक नामांकन हुआ। इसमें आधे से अधिक छात्राएं हैं। हालांकि मैथ में छात्राओं की संख्या छात्रों की तुलना में कम है। वहीं अंग्रेजी पढ़ने में भी छात्राएं छात्रों से कम नहीं है। 34 छात्रों की तुलना में छात्राओं का नामांकन 35 है। उर्दू में भी छात्राओं की संख्या अधिक है। महज तीन छात्र उर्दू से पीजी के लिए नामांकन कराये जबकि 26छात्राएं इसके लिए नामांकित हैं। संस्कृत में दस छात्र तो आठ छात्राएं हैं।

कुछ पीजी विभागों ने रिपोर्ट सही नहीं दी

पीजी के कुछ विभागों ने वार्षिक रिपोर्ट सही नहीं भेजी है। यह तक स्पष्ट नहीं किया गया है कि उन विभागों में छात्रों का नामांकन कितना हुआ है। विवि प्रशासन ने भी इसे ऐसे ही रिपोर्ट बना सीनेट में पेश कर दिया। हालांकि सीनेटर ने इसमें संशोधन की बात कही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Girls in science studies ahead of boys