DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  मुजफ्फरपुर  ›  ट्रेनों में जगह नहीं होने से जंक्शन से रोजाना लौट रही पांच टन लीची

मुजफ्फरपुरट्रेनों में जगह नहीं होने से जंक्शन से रोजाना लौट रही पांच टन लीची

हिन्दुस्तान टीम,मुजफ्फरपुरPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 04:11 AM
ट्रेनों में जगह नहीं होने से जंक्शन से रोजाना लौट रही पांच टन लीची

मुजफ्फरपुर। कार्यालय संवाददाता

ट्रेनों में जगह न होने से प्रतिदिन पांच टन लीची बाहर नहीं जा पा रही है। इसे जंक्शन से ही लौटा दिया जा रहा है। इससे किसानों व व्यवसायियों को भारी क्षति उठानी पड़ रही है। लीची की ढुलाई पर बेवहज खर्च बढ़ने से किसानों व व्यवसायियों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। सबसे अधिक मुंबई लीची भेजने में परेशानी आ रही है।

रोजाना मुंबई जाने वाली एक मात्र ट्रेन पवन एक्सप्रेस में एसएलआर व लीज पार्सल वैन जुड़ी हुई है। इन दोनों कोचों से रोजाना बीस टन लीची मुंबई भेजी जा रही है। इस ट्रेन में जगह के अभाव में रोजाना पांच टन लीची जंक्शन से लौट जा रही है। पवन एक्सप्रेस के अलावा नई दिल्ली जाने वाली वैशाली सुपर फास्ट एक्सप्रेस व अन्य ट्रेनों में भी अतिरिक्त लीची के लिए जगह नहीं मिल पा रही है। बीते दिनों भारी वर्षा के बाद अचानक लीची तुड़ाई के कार्य में तेजी आयी है। इसके अनुपात में दूसरे राज्यों में लीची भेजने के लिए पर्याप्त परिवहन सुविधा नहीं मिल पा रही है।

लीची उत्पादक संघ के अध्यक्ष बच्चा प्रसाद सिंह ने बताया कि ट्रक से लीची मुंबई भेजने में अधिक समय व खर्च लगता है। इस कारण पवन एक्सप्रेस से लीची मुंबई भेजी जा रही है। लेकिन, जगह के अभाव में प्रतिदिन पांच टन लीची जंक्शन से लौट रही है। ऐसे में ज्यादातर व्यवसायी लीची को कम कीमत पर स्थानीय बाजार में बेच देते हैं तो कई अधिक राशि खर्च कर ट्रक से लीची मुंबई भेज रहे हैं। खपत में देरी से लीची की बर्बाद होने की आशंका बनी रहती है।

संबंधित खबरें