DA Image
23 नवंबर, 2020|2:56|IST

अगली स्टोरी

पूर्वांचल हादसे में रेलवे के दो विभागों पर एफआईआर

default image

पूर्वांचल एक्सप्रेस हादसे में जीआरपी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए रेलवे के कैरेज एंड वैगन और इंजीनियरिंग विभाग के खिलाफ बुधवार को एफआईआर दर्ज की है। एफआईआर जीआरपी थानाध्यक्ष नंदकिशोर सिंह के बयान पर दर्ज की गई।

जीआरपी थानाध्यक्ष के अनुसार, इन दोनों विभागों की लापरवाही के कारण पूर्वांचल एक्सप्रेस डिरेल हुई। मुजफ्फरपुर जंक्शन पर ट्रेन रुकी, उस दौरान लाइनमैन और इंजीनियरिंग विभाग ट्रेन की जांच करती तो हादसा टल सकता था। उन्होंने बताया कि कैरेज एंड वैगन विभाग का काम है कि वह प्रत्येक ट्रेन के निचले हिस्से की जांच करेगा। जीआरपी ने बुधवार को सिलौत स्थित घटनास्थल से टूटे हुए एसी कोच के वाटर टैंक के लोहे के टुकड़े को जब्त किया है। इसे एफएसएल जांच के लिए भेज दिया गया है।

विदित हो कि गोरखपुर से कोलकाता जा रही पूर्वांचल एक्सप्रेस मंगलवार शाम 05:17 बजे मुजफ्फरपुर जंक्शन से गुजरने के 13 किमी बाद सिलौत स्टेशन के आउटर पर बेपटरी हो गई। एसी कोच के लोहे का वाटर टैंक टूटकर रेलवे लाइन पर गिर गया। पहिया से वाटर टैंक टकराने के बाद ट्रेन की दो कोच एसी ए-2 व स्लीपर एस-5 डिरेल हो गई। हालांकि बड़ा हादसा होने से बच गया है।

विभागों में हड़कंप

जीआरपी थाना में कैरेज एंड वैगन और इंजीनियरिंग विभाग के खिलाफ एफआईआर होने की सूचना तेजी से जंक्शन पर फैल गई। संबंधित विभाग के अधिकारियों में एफआईआर होने को लेकर हड़कंप मचा हुआ है।

बयान

पूर्वांचल हादसे में रेलवे के दो विभागों पर एफआईआर दर्ज की गई है। रेल पुलिस की जांच में दोनों विभागों की लापरवाही पायी गई है। एफएसएल की टीम मौके पर पहुंचकर वाटर टैंक के टूकड़े को जब्त की है। अनुसंधान में जो लोग भी दोषी पाए जाएंगे उन कार्रवाई की जाएगी।

-अशोक कुमार सिंह, रेल एसपी, मुजफ्फरपुर

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:FIR on two railway departments in Purvanchal accident