DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जिला पार्षद के किराना दुकान के निजी चौकीदार की धारदार हथियार से हत्या

जिला पार्षद के किराना दुकान के निजी चौकीदार की धारदार हथियार से हत्या

अनुमंडल के भैरवस्थान थाना के पैटघाट में किराना दुकान के निजी चौकीदार की अज्ञात अपराधियों ने धारदार हथियार से मंगलवार की रात हत्या कर दी। हत्या व हत्यारे का कोई सुराग अभी तक पुलिस को नहीं मिला है। झंझारपुर के एएसपी योगेंद्र कुमार ने बताया कि घटना को लेकर एफआईआर कर छानबीन जारी है। मृतक भैरवस्थान थाना के लालगंज गांव निवासी 73 वर्षिय तेतर मुखिया है।

घटना के वक्त तेतर मुखिया जिला पार्षद प्रेम नारायण झा के पैटघाट स्थित दुकान पर था। वहीं से अपराधियो ने उन्हें घसीट कर बगल में बह रहे नदी किनारे ले जाकर मार डाला। घटना की सूचना मिलते ही रात में ही पुलिस कप्तान दीपक बर्णवाल, एएसपी योगेंद्र कुमार, इंस्पेक्टर ब्रह्मदेव सिंह समेत भैरवस्थान पुलिस पहुची। लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। डीएम के निर्देश पर रात में ही पोस्टमार्टम कर सुबह लाश को परिजनो के सुपुर्द कर दिया गया। बुधवार को पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था में अंतिम संस्कार किया गया। मृतक के पुतोहू के फर्द बयान पर अज्ञात के खिलाफ हत्या की एफआईआर की गई है। हत्यारे की खोज में रात से ही पुलिस ने विभिन्न जगहों पर छापेमारी शुरू कर दी। समाचार प्रेषण तक हत्यारे का कोई सुराग पुलिस को नहीं मिल पाया है। घटना को लेकर लोग भयभीत व हतप्रभ है। घटना की बाबत बताया जाता है कि मंगलवार की रात तेतर मुखिया जिला पार्षद के किराना दुकान के गोदाम के सामने बरामदे पर सोने गया। लगभग दो साल से तेतर मुखिया बतौर चौकीदार रात में दुकान पर ही सोता था। लगभग साढ़े दस बजे दुकान के मकान मालिक लूटन कामत ने जिला पार्षद के भतीजे अशोक झा को फोन पर कहा कि दुकान के पास खट खट की आवाज आ रही है। शायद चोर है। फोन के बाद अशोक झा अपने भाई श्रवण झा के साथ तुरंत ही दुकान पर बाइक से आ गए। वहाँ उन्होंने तीन लोगों को दुकान के पास देखा। जो बाइक रुकते ही भाग खड़ा हुआ। जब इनलोगो ने चैकीदार को खोजा तो वह अपने विछावन पर नही था। कुछ ही देर में मकान के पीछे नदी किनारे बृद्ध मरा हुआ मिला। पुलिस को सूचना दी गई।

जान देकर भी रोकी चोरी की वारदात

तेतर मुखिया लगातार दो साल से निजी चौकीदार की तरह रात के नौ बजे दुकान के बगल स्थित गोदाम के बरामदे पर सोने जाता था। 1200 रुपये मासिक की नौकरी करता था। घटना की रात भी वह अपने कर्तब्य को पूरा कर रहा था। कयास लगाया जाता है कि चोर चोरी करने गया होगा। विरोध करने पर हत्या कर दी। संभावना व्यक्त की जा रही है कि चोर स्थानीय होगा। उसे चौकीदार पहचान लिया होगा। जिससे उसकी हत्या की गई। अपराधी ने धारदार हथियार से तेतर मुखिया के ठोडी पर, कान के ऊपर माथे पर और गले के पास दो जगहों पर गहरा जख्म दिया था। जिससे उसकी तत्काल मौत हो गई।

दो बार पहले भी हो चुकी है चोरी

उक्त दुकान में इससे पूर्व भी दो बार चोरी हुई है। वर्ष 2014 और 16 में। एक बार चोरों ने मोटर खोल लिया। तीसरी चोरी को तेतर मुखिया ने जान देकर रोक ली। लोग तेतर के बहादुरी की प्रसंसा कर रहे है। तेतर मुखिया का एक पुत्र लक्ष्मी मुखिया मुंबई में मजदूरी करता है। चार बेटी क्रमशः उषा देवी, चुन्नी देवी, मरैल देवी और आशा देवी का विवाह हो चुका है। गरीबी में जी रहे परिवार में वद्ध ही गांव में रहने वाला अकेला पुरुष सदस्य था।

प्रभारी थानाध्यक्ष बीएन लाल ने कहा कि पुलिस हर संभव प्रयास कर रही है। जल्द ही ब्लाइंड केस को सॉल्व करने का प्रयास किया जा रहा है। प्रखंड प्रमुख रंजू देवी ने कहा कि पीड़ित परिवार को हर संभव सरकारी और सामाजिक सुविधा राहत स्वरूप प्रदान की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:District Collector s grocery store s private janitor killed with a sharp weapon