DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एईएस से एक और बच्चे ने तोड़ा दम, पांच गंभीर

एसकेएमसीएच और केजरीवाल अस्पताल में भर्ती नौ मरीजों में से एक की मौत शुक्रवार को हो गई। पांच मरीजों की हालत गंभीर बनी हुई, जबकि सेहत में सुधार होने पर तीन को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। इसके साथ ही पिछले तीन दिनों में चार मरीजों की मौत हो गई। वहीं, इस साल एईएस व जेई से मरने वाले मरीजों की संख्या 14 हो गई है। इसमें एसकेएमसीएच में 10 व केजरीवाल चार मरीजों की मौत हुई है। जेई से अब तक चार मरीजों ने दम तोड़ा है। केजरीवाल अस्पताल में भर्ती एईएस के चार में से एक की मौत शाम में हो गई। मृत बच्ची मोतिहारी जिले के मधुबन थाने के जगोवलिया गांव के शिवशंकर राम की पुत्री अंशु कुमारी थी। इसकी पुष्टि अस्पातल के प्रशासक वीवी गिरि ने की। वहीं, शेष तीन मरीजों का इलाज जारी है। उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। इससे पहले बुधवार को कांटी के सदातपुर के छह वर्षीय दीपू कुमार ने इलाज के दौरान अस्पताल में दम तोड़ दिया था। उधर, एसकेएमसीएच में दो दिनों से इलाजरत पांच एईएस के मरीजों में से दो की हालत गंभीर बनी हुई है। वहीं, सुधार के बाद डॉक्टर ने तीन मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी। गंभीर मरीजों में सीतामढ़ी जिले के राजोपट्टी की 12 वर्षीय सुरैया प्रवीण व मोतिहारी जिले के मेहसी थाने के हरपुर गांव के तीन वर्षीय विशाल कुमार है। वहीं, मीनापुर के नूर छपरा के अमन कुमार, राजेपुर के सुधांशु कुमार, मेहसी दमोदरपुर की मुन्नी कुमारी को अस्पताल से छुट्टी दे दी। डॉक्टरों ने सभी मरीजों में एईएस की पुष्टि की थी। एसकेएमसीएच के शिशुरोग विभागाध्यक्ष डॉ. अरविंद कुमार ने बताया कि चमकी बुखार के शिकायत पर बुधवार को चार व गुरुवार को तीन मरीजों को इलाज के लिए भर्ती कराया गया था। सभी में एईएस की पुष्टि की गई थी। इसमें दो मरीज साहेबगंज के मो. इमतयाज व सकरा के अनिकेत कुमार की गुरुवार को मौत हो गई थी। पांच मरीज इलाजरत थे। शुक्रवार को इसमें से तीन मरीजों को सुधार होने के बाद अस्पातल से छुट्टी दे दी गई। विशाल व सुरैया की हालत गंभीर बनी हुई, लेकिन पहले से सुधार देखा गया है। दोनों मरीजों के ब्लड सैंपल को पैथोलॉजिकल जांच के लिए भेजा गया है। रिपोर्ट आने के बाद सही बीमारी की जानकारी होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Death of another child from AES, five serious