DA Image
6 दिसंबर, 2020|3:52|IST

अगली स्टोरी

सामान्य निमोनिया व सांस के सीरियस मरीजों की कोरोना जांच शुरू

default image

सामान्य निमोनिया व सांस की बीमारियों के गंभीर मरीजों की डॉक्टरों की राय पर सैंपल लेकर कोरोना वायरस की लैब जांच होगी। स्वास्थ्य विभाग के इस नए प्रावधान को एसकेएमसीएच में लागू कर दिया गया है। सामान्य बुखार, सर्दी-खांस के कारण आंशिक सांस लेने में कठिनाई वाले को नए प्रावधान से अलग रखा गया है। इस नई व्यवस्था में 15 साल से अधिक उम्र वाले को ही शामिल करना है। दअसल, कोरोना को लेकर स्क्रीनिंग ओपीडी में निमोनिया, सांस जनित बीमारियों के मरीज अधिक आ रहे थे। इनको संदिग्ध मानकर सैंपल लेना पड़ रहा था। इस तरह के 20 से अधिक मरीजों की लैब जांच की गयी। इनकी रिपोर्ट निगेटिव मिली है।

एसकेएमसीएच के अधीक्षक डॉ. एसके शाही ने बताया कि पूर्व से ही इस तरह के मरीजों का इलाज चल रहा था। अभी कोरोना के संक्रमण को देखते हुए विशेष पहल हो रही है। इसी तरह मेडिसिन विभागाध्यक्ष डॉ. भगवान दास ने बताया कि 15 साल से अधिक उम्र वाले सांस की गंभीर बीमार के मरीज आते हैं तो उनको जनरल वार्ड में भर्ती किया जाएगा। लक्षण आधारित इलाज होगा। इसी बीच में कोरोना आइसोलेशन वार्ड में रखकर सैंपल लिया जाएगा। निगेटिव रिपोर्ट आने पर फिर से लक्षण आधारित इलाज होगा। आवश्यकता होने पर जनरल वार्ड में भर्ती किया जाएगा। अब तक इस तरह के दो मरीजों का इलाज हुआ है। इनकी लैब रिपोर्ट निगेटिव है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Corona examination of common pneumonia and respiratory patients started