ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार मुजफ्फरपुरशूटर उज्जवल, साजिशकर्ता ओंकार व डॉलर पर चार्जशीट

शूटर उज्जवल, साजिशकर्ता ओंकार व डॉलर पर चार्जशीट

प्रॉपर्टी डीलर आशुतोष शाही हत्याकांड में सीआईडी ने जेल में बंद उज्ज्वल सिंह, रणंजय ओंकार और अधिवक्ता सैयद कासिम हसन उर्फ डॉलर पर सोमवार को सीजेएम...

शूटर उज्जवल, साजिशकर्ता ओंकार व डॉलर पर चार्जशीट
default image
हिन्दुस्तान टीम,मुजफ्फरपुरTue, 11 Jun 2024 01:45 AM
ऐप पर पढ़ें

मुजफ्फरपुर, प्रमुख संवाददाता
प्रॉपर्टी डीलर आशुतोष शाही हत्याकांड में सीआईडी ने जेल में बंद उज्ज्वल सिंह, रणंजय ओंकार और अधिवक्ता सैयद कासिम हसन उर्फ डॉलर पर सोमवार को सीजेएम कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की है। 16 पन्ने की चार्जशीट में तीनों पर लगे आरोप के संबंध में बताया गया है। इसमें उज्ज्वल को शूटर और ओंकार व डॉलर को साजिशकर्ता बताया गया है। तीनों आरोपितों में पटना के जानीपुर का उज्ज्वल अभी बेउर जेल में बंद है। वहीं ओंकार और डॉलर मुजफ्फरपुर जेल में है।

सीआईडी के आईओ अशोक झा ने तीनों पर धारा 302, 307, 379, 120 बी, 34 और आर्म्स एक्ट में चार्जशीट दाखिल की है। इन धाराओं में उम्रकैद तक का प्रावधान है। इससे पहले सीआईडी ने मुख्य आरोपित मंटू शर्मा, गोविंद कुमार, विक्रांत शुक्ला उर्फ विक्कू शुक्ला और पूर्व वार्ड पार्षद शेरू अहमद पर चार्जशीट दाखिल की थी।

पटना के जानीपुर थाना क्षेत्र के उज्ज्वल सिंह उर्फ अविनाश को पुलिस टीम ने बीते साल 9 अक्टूबर को गिरफ्तार किया था। तब उसके पास से .45 बोर की पिस्टल व गोलियां मिली थी। सीआईडी ने कोर्ट में प्रतिवेदन देकर बताया था कि आशुतोष शाही हत्याकांड के बाद घटनास्थल से .45 बोर के खोखे जब्त किए गए थे। इसी बोर की गोलियों से आशुतोष शाही की गोली मारकर हत्या की गई थी। एफएसएल जांच में स्पष्ट हुआ है कि आशुतोष शाही की हत्या के बाद मिले खोखे उज्ज्वल सिंह के पास से जब्त पिस्टल से ही चलाए गए थे। इस तरह उज्जवल के पास से जब्त पिस्टल का इस्तेमाल हत्या में हुआ था।

सीआईडी ने हत्याकांड के मुख्य शूटर गोविंद का स्वीकारोक्ति बयान लिया था, जिसमें पटना के दो और रांची के एक शूटर को हत्या के लिए 10 लाख की सुपारी पर बुलाने की बात थी। सीआईडी ने स्पष्ट किया है कि उज्ज्वल भी इस हत्याकांड में हथियार के साथ मुजफ्फरपुर पहुंचा। उसके सहयोग से गोविंद ने घटना को अंजाम दिया था। ओंकार और गोविंद दोनों जमीन के धंधे में पार्टनर हैं। आशुतोष शाही से दोनों की दुश्मनी थी। इसलिए हत्या के लिए रेकी और साजिश रचने में ओंकार को शामिल बताया गया है। अधिवक्ता सैयद कासिम हसन के घर में हत्या हुई थी। उसपर आरोप है कि आशुतोष शाही को कॉल कर बुलाया था। अधिवक्ता को भी साजिश में शामिल बताया गया है।

एक साथ हुई थी चार लोगों की हत्या :

नगर थाना के लकड़ीढाई मोहल्ले में अधिवक्ता सैयद कासिम हसन के आवास पर बीते साल 21 जुलाई की रात आशुतोष शाही मिलने पहुंचा था। वहां अचानक दो बाइक से चार अपराधी पहुंचे और आशुतोष पर ताबड़तोड़ फायरिंग की। 12 गोलियां आशुतोष शाही को मारी गई, जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई। इसके बाद जब उसके बॉडीगार्ड ने हरकत की तो उसे भी वकील के घर के परिसर में ही अपराधियों ने ढेर कर दिया। एक बॉडीगार्ड की मौत मौके पर हो गई, जबकि दो ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। अधिवक्ता डॉलर की बांह में भी गोली लगी थी।

दो और साजिशकर्ता व दो शूटरों की होगी तलाश :

आशुतोष शाही समेत चार लोगों की हत्या में गोविंद के स्वीकारोक्ति बयान के आधार रेकी व साजिश में शामिल बाबुल और चीकू के अलावा रांची व पटना के एक शूटर पर सीआईडी की जांच चलेगी। इनके विरुद्ध साक्ष्य के आधार पर सीआईडी आगे की कार्रवाई करेगी। इन दोनों का नाम सीआईडी ने केस डायरी में भी स्पष्ट किया है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।