DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विधान परिषद में उठा स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड फर्जीवाड़ा का मामला

राज्य के तीन जिलों में स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड फर्जीवाड़े पर भोजपुर के विधान पार्षद राधाचरण साह ने विधान परिषद में सवाल उठाया है। विधान परिषद में मामला उठने के बाद मुजफ्फरपुर, रोहतास व सारण से विधान परिषद सचिवालय ने जवाब मांगा है। ‘हिन्दुस्तान ने स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड फर्जीवाड़े के संबंध में प्रमुखता से खबर प्रकाशित की थी। विधान पार्षद ने बताया कि तय समय सीमा के अनुसार 15 फरवरी को सदन में मामले का जवाब दिया जाएगा।

विधान पार्षद ने सदन में पूछा है कि क्या यह सही है कि तीन जिलों में स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना में फर्जीवाड़ा किया गया है। यदि यह सच है तो सरकार दोषी कर्मचारी व पदाधिकारियों पर क्या कार्रवाई कर रही है। इसपर विधान परिषद के अवर सचिव राजीव रंजन सिंह ने तीनों जिले के जिलाधिकारी से जवाब की मांग की है। सदन में जवाब देने के लिए विधान परिषद ने 15 फरवरी की तिथि तय की है। विधान परिषद में मामला उठने के बाद जिलों में स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड के रिकार्ड खोजे जाने लगे हैं।

फर्जीवाड़े का पूरा मामला

बिहार राज्य शिक्षा वित्त निगम ने जिलों को इस फर्जीवाड़े के बारे में अलर्ट किया था। निगम के कार्यपालक पदाधिकारी सह प्रबंध निदेशक जयंत सिंह ने कहा था कि पूर्व में संगम विश्वविद्यालय राजस्थान, विवेकानंद ग्लोबल विवि जयपुर, शीतयोग इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी औरंगाबाद, प्रभु कैलाश टेक्नालॉजी औरंगाबाद, मेवाड़ विवि चित्तौड़, संस्कृति विवि मथुरा से बड़ी संख्या में आवेदन आये हैं, जो संदेहास्पद हैं। एक ही संस्थान से बड़ी संख्या में आवेदन पकड़ में आने के बाद उनकी जांच भी शुरू हुई थी। अब यह मामला विधान परिषद में उठा है।

मैंने परिषद के 191 वें सत्र में यह सवाल पूछा है, जिसका जवाब 15 फरवरी को मिलने की उम्मीद है। स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड में फर्जीवाड़ा एक संवेदनशील मुद्दा है। इसकी पूरी जांच होनी चाहिए।

-राधा चरण साह, विधान पार्षद, भोजपुर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Case of the student credit card fraud case raised in Vidhan Parishad