DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

2020 तक टेक्नोलॉजी से विवि को कर देना है लैस

2020 तक टेक्नोलॉजी से विवि को कर देना है लैस

अगले दो साल में वर्ष 2020 तक विश्वविद्यालयों को टेक्नोलॉजी से पूरी तरह लैस कर देना है। परीक्षा से लेकर तमाम कार्य टेक्नोलॉजी के आधार पर ही होगा। केन्द्र सरकार ने इस पर पहल शुरू कर दी है। एक दिन पूर्व दिल्ली में देशभर के तमाम विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के साथ मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से हुई कार्यशाला में टेक्नोलॉजी पर जोर दिया गया। इसमें बीआरए बिहार विवि के कुलपति डॉ. अमरेन्द्र नारायण यादव भी शामिल हुए।

वीसी डॉ. यादव ने बताया कि 2020 तक विवि को टेक्नोलॉजी से पूरी तरह लैस कर देना है। कागजों पर आधारित काम को लगभग पूरी तरह बंद कर देना है। कागजों के कम से कम प्रयोग कर टेक्नोलॉजी पर पूरी तरह निर्भर रहना है। इस बैठक में शिक्षा मंत्री प्रकाश जावडेकर के साथ शिक्षाविद् भी मौजूद थे। वीसी ने कहा परीक्षा के कार्य में भी टेक्नोलॉजी का ही प्रयोग आने वाले दिनों में करना है। कार्यशाला में बात आई कि टेक्नोलॉजी के अधिक से अधिक प्रयोग से पारदर्शिता आएगी। इस कार्यशाला में देशभर के ढाई सौ से अधिक विवि के कुलपति शामिल हुए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:By 2020, the technology has to be equated to the university.