Brajesh s Manyaagari to be buried with ah - आह से दफन होने लगी ब्रजेश की ‘मायानगरी DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आह से दफन होने लगी ब्रजेश की ‘मायानगरी

आह से दफन होने लगी ब्रजेश की ‘मायानगरी

बालिका गृह कांड के किंगपिन ब्रजेश ठाकुर की बादशाहत बालिका गृह पर चल रहे हथौड़े की चोट से दफन होने लगी है। मोहल्ले वासियों ने जिस भवन को शान से बनते देखा था, आज उसे ध्वस्त होते देख रहे थे। देखने वाला हर शख्स बस यही कह रहा था कि इसे उन बेसहारा बच्चियों की आह लगी है। बच्चियों के आंसुओं के सैलाब में ब्रजेश ठाकुर की मायानगरी धराशायी होने लगी।

गुरुवार से बालिका गृह को ढहाने की प्रक्रिया शुरू हुई। इस दौरान एक बुजुर्ग ने कहा कि अब कुछ नहीं बचा। सब कुछ खत्म हो गया। कार्रवाई तो पहले ही होनी चाहिए थी। एक महिला ने कहा कि आज उस गरीब बच्चियों को न्याय मिलता दिख रहा है। इस दौरान महिलाएं अपनी छत, बालकोनी और गलियों से ताक-झांक करती रहीं।

1994 में पास हुआ था नक्शा : एक निगमकर्मी ने बताया कि इस भवन के निर्माण के लिए 1994 में नक्शा पास कराया गया था। उस वक्त ग्राउंड फ्लोर और प्रथम मंजिल के लिए नक्शा पास हुआ था, पर भवन उस नक्शे के आधार पर निर्मित नहीं है। 31 अक्टूबर 2013 को इसमें बालिका गृह खोला गया था।

टिस की रिपोर्ट से खत्म हो गई बादशाहत

टिस की रिपोर्ट के बाद ब्रजेश ठाकुर की बादशाहत का बुरा दौर शुरू हो गया। 31 मई को सेवा संकल्प व विकास समिति के खिलाफ महिला थाने में एफआईआर हुई। इसकी जांच व पूछताछ के बाद ब्रजेश और इनके कर्मचारियों को पुलिस ने 03 जून 2018 को कोर्ट में पेशकर सेन्ट्रल जेल भेजा। इसके बाद रोज नई-नई जांच व छानबीन से ब्रजेश और उसकी टीम पर जांच एजेंसियां शिकंजा कसती चली गईं। फिलहाल वह पंजाब के पटियाला जेल में बंद है। सुप्रीम कोर्ट ने भी मामले में कई अर्जी खारिज कर चुकी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Brajesh s Manyaagari to be buried with ah