Assistant to the deceased crew-supervisor to get subsidy soon - मृत सेविका-पर्यवेक्षिका के आश्रित को अनुदान जल्द DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मृत सेविका-पर्यवेक्षिका के आश्रित को अनुदान जल्द

मृत सेविका-पर्यवेक्षिका के आश्रित को अनुदान जल्द

सेविका, सहायिका व महिला पर्यवेक्षिका की सेवा अवधि के दौरान मौत होने पर आश्रितों को चार लाख रुपये का अनुदान लेने के लिए ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ेगा। कई जिलों में अनुदान का त्वरित व ससमय निष्पादन नहीं होने से डीपीओ व सीडीपीओ कार्यालय पर पारिवाद दायर किये जा रहे हैं।

आईसीडीएस निदेशक ने इसे गंभीरता से लेते हुए अनुदान की स्वीकृति व भुगतान जल्द करने के लिए डीएम व डीपीओ को पत्र लिखा है। अनुदान देने में देरी होने पर संबंधित लोगों के विरुद्ध प्रशासनिक कार्रवाई करने की चेतावनी दी है। विभागीय स्तर से अनुदान की स्वीकृति के लिए प्रक्रिया भी निर्धारित की गई है। आईसीडीएस निदेशक आलोक कुमार ने कहा है कि प्रत्येक परियोजना में अनुदान आवेदन के लिए एक पंजी रखी जाएगी। आवेदन लेते समय संबंधित कार्यवाहक सहायक आवेदन की संक्षेप सूचनाएं पंजी में दर्ज करेंगे और प्राप्ति रसीद देंगे। आवेदन के सभी कॉलम सही से भरे होने की जांच उसी समय की जाएगी। आवेदन मिलने की तिथि के सात दिनों में उसकी जांच सक्षम अधिकारी से करा ली जाए। इसके सात दिनों के बाद संबंधित अधिकारी, सीडीपीओ, डीपीओ जांच कर डीएम को देंगे। डीएम के अनुमोदन के तीन कार्य दिवस के अंदर राशि की मांग निदेशालय से की जाए।

30 आवेदन मिले जिले में अनुदान के लिए

जिले में सेविका-सहायिका व पर्यवेक्षिका के आश्रितों की ओर से 30 आवेदन दिए गये हैं। मगर अनुदान के इंतजार में ये सभी जिला कार्यालय में पड़े हुए हैं। आईसीडीएस की डीपीओ ललिता कुमारी ने बताया कि डीएम को फाइल बढ़ाई गई है। स्वीकृति मिलते ही अनुदान देने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Assistant to the deceased crew-supervisor to get subsidy soon